सत्य पथिक वेबपोर्टल/उत्तरकाशी/2 Trainee mountaineers dead in Avalanche: उत्तराखंड में पहाड़ों पर बर्फबारी के बीच उत्तरकाशी जिले के द्रोपदी का डांडा-पर्वत चोटी में हिमस्खलन Avalanche की चपेट में आने से जिले के नेहरु पर्वतारोहण संस्थान (निम) के 40 प्रशिक्षु पर्वतारोही बर्फ के हजारों टन ढेर तले फंस गए हैं। भीषण हादसे में फिलहाल दो पर्वतारोहियों की मौत की सूचना है।

पर्वतारोहण अभियान में 33 प्रशिक्षुओं और सात प्रशिक्षकों सहित 40 लोग शामिल थे। अब तक 3 प्रशिक्षुओं और 7 प्रशिक्षकों सहित 10 पर्वतारोहियों को सुरक्षित निकाल लिया गया है। वायुसेना का रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। राहत और बचाव कार्य में वायुसेना के दो चीता हेलिकॉप्टर जुटे हैं। वायुसेना अफसरों का कहना है कि कुछ हेलिकॉप्टर्स को स्टैंड बाई मोड में भी रखा गया है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से सेना की अतिरिक्त मांगी है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हादसे में कुछ पर्वतारोहियों की मौत की खबर पर ट्वीट करते हुए दुख जताया है। उन्होंने ट्वीट में लिखा है- ‘मुख्यमंत्री धामी से बात कर हालात की जानकारी ली। फंसे हुए पर्वतारोहियों की मदद के लिए बचाव कार्य जारी है। वायुसेना को बचाव और राहत अभियान चलाने का निर्देश दिया है। सभी की सुरक्षा और सलामती के लिए प्रार्थना है।’
मुख्यमंत्री धामी ने ट्वीट करके कहा, ‘द्रौपदी का डांडा-2 पर्वत चोटी में हिमस्खलन में फंसे प्रशिक्षार्थियों को जल्द से जल्द सकुशल बाहर निकालने के लिए NIM की टीम के साथ जिला प्रशासन, NDRF, SDRF, सेना और ITBP के जवानों द्वारा तेजी से राहत एवं बचाव कार्य चलाया जा रहा है।’

एसडीआरएफ कमांडेंट मणिकांत मिश्रा ने बताया कि सहस्त्रधारा हेलीपैड से एसडीआरएफ की पांच टीमें घटनास्थल के लिए रवाना हो गई हैं। तीन टीमों को रिजर्व में रखा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!