राज्य के 14 में से पांच विश्वविद्यालयों में बजा एबीबीपी का डंका, सात पर निर्दलीयों का कब्जा, दो में जीती एसएफआई

सत्य पथिक वेबपोर्टल/जयपुर-राजस्थान/Students Union Election: वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के बीच 2 साल बाद राजस्थान में हुए छात्रसंघ चुनाव में भाजपा समर्थित छात्र संगठन एबीवीपी का डंका बजा है जबकि सत्तारूढ़ कांग्रेस समर्थित एनएसयूआई का सूपड़ा ही साफ हो गया है। प्रदेश की 14 विश्वविद्यालयों में से पांच में एबीवीपी, दो में एसएफआई और बाकी सात में निर्दलीयों का कब्जा हुआ है।


राजस्थान में छात्रसंघ चुनाव (student union elections) के नतीजे कांग्रेस के लिए बहुत बुरे रहे हैं। गहलोत सरकार भले ही अगला बजट युवाओं को समर्पित कर रही हो, लेकिन छात्रसंघ चुनाव में कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई को युवाओं ने नकार दिया है।

इन संगठनों ने उतारे प्रत्याशी

राजस्थान के छात्रसंघ चुनाव में नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया एनएसयूआई (NSUI) ने सबसे ज्यादा विश्वविद्यालयों और इनसे संबद्घ कुल 487 कॉलेजों में अध्यक्ष और अन्य पदों पर अपने प्रत्याशी उतारे थे जबकि भाजपा समर्थित अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद एबीवीपी (ABVP) in student ने लगभग 336 कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में अपने प्रत्याशियों पर दांव लगाया था। वामपंथी एआईएसएफ (ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन) और एसएफआई (स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया) ने भी कई कॉलेजों में अपने उम्मीदवार खड़े किए थे।

दिग्गज कांग्रेसियों के गढ़ में भी हारी एनएसयूआई

इन चुनाव नतीजों से सत्ताधारी दल कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। कांग्रेस समर्थित छात्र संगठन एनएसयूआई को राजस्थान के 14 में से विश्वविद्यालयों में से एक में भी जीत नसीब नहीं हो सकी है। हालत इतनी बुरी है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह जिले जोधपुर और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डोटासरा के गृह जिले सीकर में भी एनएसयूआई प्रत्याशी जीत नहीं पाए हैं। सिर्फ इतना ही नहीं, सचिन पायलट के अजमेर और टोंक में भी एनएसयूआई उम्मीदवार जीत के लिए तरसते ही रह गए हैं। जिन 14 यूनिवर्सिटीज में एनएसयूआई चुनाव हारी है. वहां से सरकार के 16 मंत्री आते हैं। 14 दिग्गजों का तो इन यूनिवर्सिटी और कॉलेजों से सीधा संबंध भी है।

छात्रसंघ चुनाव परिणाम: एक नज़र में

राजस्थान यूनिवर्सिटी जयपुर में निर्दलीय निर्मल चौधरी अध्यक्ष बने

महारानी कॉलेज जयपुर में मानसी वर्मा अध्यक्ष बनी

महाराजा कॉलेज जयपुर में संदीप गुर्जर अध्यक्ष बने

कॉमर्स कॉलेज जयपुर में आदित्य शर्मा अध्यक्ष बने

राजस्थान कॉलेज में लक्ष्यराज चूंडावत अध्यक्ष बने

हरदेव जोशी पत्रकारिता यूनिवर्सिटी में सोमू आनन्द अध्यक्ष बने

राजस्थान संस्कृत यूनिवर्सिटी में निर्दलीय पंकज कुमावत अध्यक्ष बने

मोहनलाल सुखाड़िया यूनिवर्सिटी उदयपुर में एबीवीपी से कुलदीप सिंह अध्यक्ष बने

मीरा कन्या महाविद्यालय उदयपुर में एबीवीपी से किरण वैष्णव अध्यक्ष बने

महाराणा प्रताप एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में निर्दलीय सत्येंद्र यादव अध्यक्ष बने

बाबू शोभाराम कला महाविद्यालय अलवर में SFI से शाजिद खान अध्यक्ष बने

राजश्री कॉलेज अलवर में एनएसयूआई के अमित कुमार बैरवा अध्यक्ष बने

मत्स्य विश्वास विद्यालय अलवर में निर्दलीय सुभाष चंद गुर्जर अध्यक्ष बने

महारानी श्री जया स्नातकोत्तर महाविद्यालय भरतपुर में एबीवीपी से पवन कुमार अध्यक्ष बने

आरडी कॉलेज भरतपुर में एबीवीपी आशना फौजदार अध्यक्ष बनी

महाराजा सूरजमल बृज विश्वविद्यालय भरतपुर में एबीवीपी से हितेश फौजदार अध्यक्ष बने

डूंगर कॉलेज बीकानेर में एनएसयूआई से हरिराम गोदारा अध्यक्ष बने

महाराजा गंगा सिंह यूनिवर्सिटी बीकानेर में एबीवीपी से लोकेंद्र सिंह अध्यक्ष बने

महारानी सुदर्शन कॉलेज बीकानेर में एनएसयूआई की निरमा मेघवाल अध्यक्ष बनी

कोटा यूनिवर्सिटी में निर्दलीय अजय पारेता अध्यक्ष बने

गवर्नमेंट आर्ट्स कॉलेज कोटा में एबीवीपी से मनीष सामरिया अध्यक्ष बने

जेडीबी आर्ट्स कॉलेज कोटा में एबीवीपी से शिवानी दुबे अध्यक्ष बनी

सम्राट पृथ्वीराज चौहान राजकीय महाविद्यालय अजमेर में ABVP के सुरेंद्र गुर्जर अध्यक्ष बने

एमडीएस यूनिवर्सिटी अजमेर में एबीवीपी के महिपाल गोदारा अध्यक्ष बने

एसके गर्ल्स कॉलेज सीकर में एसएफआई की राजकुमारी जाखड़ अध्यक्ष बनी

पंडित दीनदयाल उपाध्याय शेखावटी विश्वविद्यालय पहली बार हुए चुनाव में एसएफआई के विजेंद्र ढाका अध्यक्ष बने

जयनारायण व्यास यूनिवर्सिटी जोधपुर में एसएफआई के अरविंद सिंह भाटी जीते

एमबीएम यूनिवर्सिटी जोधपुर में निर्दलीय चंद्रांशु खीरिया अध्यक्ष बने

बांसवाड़ा गोविंद गुरु जनजातीय यूनिवर्सिटी में एबीवीपी से सुनील सुरावत अध्यक्ष बने

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!