डीएम ने कलक्ट्रेट सभागार में ली अभियोजन कार्यों की मासिक समीक्षा बैठक

सत्य पथिक वेबपोर्टल/बरेली/Crime Control: अभियोजन कार्यों की मासिक समीक्षा बैठक शनिवार को जिलाधिकारी शिवाकान्त द्विवेदी की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई।

बैठक में संयुक्त निदेशक अभियोजन अवधेश पाण्डेय ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि गुंडा नियंत्रण अधिनियम में जिला प्रशासन द्वारा 58 अभियुक्तों को पाबंद किया गया है। गैंगस्टर अधिनियम में 16 मामलों में प्रभावी पैरवी करते हुए अभियुक्त की जमानत को निरस्त कराया गया है। एससी/एसटी एक्ट के मामले में तीन अभियुक्तों को सजा हुई है। महिला अपराध के 14 मामलों में भी अभियुक्तों को सजा दिलाई गई है। महिला अपराध में सजा दिलाने में जनपद बरेली प्रदेश भर में प्रमुख स्थान पर है।

संयुक्त निदेशक अभियोजन अवधेश पाण्डेय ने बताया कि आईपीसी के 13 मुकदमों में गुण-दोष के आधार पर और आईपीसी के अंतर्गत 541 मुकदमों में जुर्म इकबाल के आधार पर सजा हुई है। अन्य अधिनियमों में 2535 मुकदमों में इकबाले जुर्म के आधार पर अभियुक्तों को सजा हुई है। आयुध अधिनियम के 7 मुकदमों में प्रभावी पैरवी करते हुए अभियुक्तगण को सजा कराई गई है। जिलाधिकारी ने कहा कि महिलाओं एवं बालकों के विरुद्ध लैंगिक अपराधों से संबंधित मुकदमों में प्रभावी पैरवी करते हुए अपराधियों को अधिक से अधिक दंड से दंडित कराया जाए।

इस अवसर पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अखिलेश कुमार चौरसिया, अपर जिला अधिकारी नगर डॉ0 आर0डी0 पाण्डेय, संयुक्त निदेशक अभियोजन श्री अवधेश पाण्डेय, जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी श्री सुनीति कुमार पाठक, अभियोजन अधिकारी गण, शासकीय अधिवक्ता सहित अन्य सम्बंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!