विरोध पर परिजनों-साथियों संग घर में घुसकर खूब मचाया तांडव, धमकाया भी, एसएसपी के आदेश पर हो पाई एफआईआर

सत्य पथिक वेबपोर्टल/बरेली/Crime: पड़ोस में रह रहे दूर के रिश्तेदार द्वारा शादी का झांसा देकर काफी समय से बलात्कार करते रहने और विरोध पर पीड़िता और उसके परिजनों को हत्या की धमकी देने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। पीड़िता की शिकायत के बाद एसएसपी के आदेश पर सुभाषनगर थाने में आरोपी युवक और उसके परिजनों के विरुद्ध रेप, धमकाने और अन्य संबंधित धाराओं में एफआईआर दर्ज कर पुलिस विवेचना में जुट गई है।

पीड़िता ने एसएसपी को दिए शिकायतीपत्र में बताया है कि दूर का रिश्तेदार पड़ोसी अतुल गुप्ता अक्सर उसके घर आता-जाता था। बातों के प्रेमजाल में फंसाकर 2 मार्च 2021 को बहाने से उसे शहर के चौपुला चौराहे के पास के एक मकान में ले गया और नशीला पदार्थ मिला जूस पिलाकर बेहोश हालत में दुष्कर्म किया। होश में आने पर विरोध किया तो शादी कर लेने की बात कहकर चुप करा दिया। बाद में तो अक्सर उससे शारीरिक संबंध बनाने लगा। जब भी विरोध करती, शादी कर लेने की बात कहकर मुंह बंद करवा देता। आखिरकार एक दिन ज्यादा जोर देने पर शादी कर लेने के अपने वायटे से साफ मुकर गया। जानकारी मिलने पर घर वालों ने बात की तो अतुल और उसके पिता जयकुमार ने गालियां बकते हुए हत्या की धमकी देकर भगा दिया। पीड़िता का आरोप है कि अतुल उसे अशोभनीय शब्दों से अपमानित करता है। उसका तएरा भाई शंकर भी राह चलते छेड़ता है।

आरोप है कि 25 जून 2022 की शाम वह दरवाजे पर खड़ी थी, तभी अतुल आ गया और गंदे इशारे करने लगा। मना करने पर गालियां बकता रहा। अगले दिन 26 जून की सुबह अतुल पिता जयकुमार, भाइयों धर्मपाल, शंकर, दूसरे मोहल्ले के विजय, मेंहदी, संजीव और चार अन्य अज्ञात लोगों को लेकर घर में घुस आया। लाठी-डंडों, हथियारों से लैस ये लोग पीड़िता, उसके पिता, बहनों और भाइयों से मारपीट की और धमकाते हुए चले गए। आरोप है कि सुभाषनगर थाना पुलिस ने भी मारपीट की हल्की धाराओं में एफआईआर कर और पीड़ित पक्ष पर दूसरी तरफ सेव भी झूठा केस लिखकर मामला रफा-दफा करने की कोशिश की। एसएसपी के आदेश पर अतुल गुप्ता, जयकुमार, धर्मपाल, शंकर, विजय मेंहदी, संजीत और चार अज्ञात आरोपियों के विरुद्ध बलात्कार, धमकाने, मारपीट और अन्य संबंधित धाराओं में एफआईआर दर्ज कर विवेचना भी शुरू कर दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!