तत्कलीन उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के बुलावे पर भी आ चुका है, खुलासे ने मचाई खलबली

सत्य पथिक वेबपोर्टल/इस्लामाबाद/big disclosure:
पाकिस्तान के स्तंभकार नुसरत मिर्जा ने अपनी पांच बार की भारत यात्रा के दौरान पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए जासूसी करते रहने का बड़ा खुलासा कर सियासी हलकों में भारी खलबली मचा दी है।

पाकिस्तानी पत्रकार नुसरत मिर्जा ने बताया कि कांग्रेस के शासनकाल में वह कई बार भारत आया था। इस दौरान उसने यहां से जुटाई गई जानकारी को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI के साथ साझा भी किया।

बता दें कि पाकिस्तान के स्तंभकार नुसरत मिर्जा ने साल 2007 से 2010 के दौरान दिल्ली और अलीगढ़ में कई कार्यक्रमों में भाग लिया था। मिर्जा ने दिल्ली के ओबेरॉय होटल में 27 अक्टूबर, 2009 को आतंकवाद के खिलाफ इंटरनेशनल सम्मेलन में शिरकत की थी। इस दौरान जामा मस्जिद के शाही इमाम अहमद बुखारी और याह्या बुखारी इस विवादास्पद पाकिस्तानी पत्रकार का अभिवादन करते हुए दिखाई दिए थे। 

जामा मस्जिद यूनाइटेड फोरम द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी और कैबिनेट मंत्री गुलाम नबी आजाद भी शामिल हुए थे। अन्य आमंत्रित लोगों में मधु किश्वर भी थीं।
मिर्जा फाउंडेशन द्वारा छापी गईं तस्वीरों में विवादित पत्रकार नुसरत मिर्जा साल 2007 और 2010 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कैनेडी ऑडिटोरियम में ‘स्टूडेंट सेमिनार’ में गेस्ट की हैसियत से स्पीच देता दिख रहा है।

इससे पहले पत्रकार शकील चौधरी को दिए एक इंटरव्यू में नुसरत ने कहा था कि आमतौर भारत के लिए वीजा में केवल तीन स्थानों पर जाने की इजाजत मिलती है। हालांकि पाकिस्तान के तत्कालीन विदेश मंत्री खुर्शीद कसूरी ने मुझे सात भारतीय शहरों के लिए वीजा दिलाने में मदद की थी। यह वीडियो यूट्यूब पर भी शेयर किया गया था।

बताते हैं कि नुसरत फरवरी 2010 में दिल्ली जामिया मिलिया में एक अंतरधार्मिक धार्मिक संगोष्ठी में भी भाग लेने आया था। उसके साथ पाकिस्तानी अल्पसंख्यक समुदाय के नेताओं का एक समूह भी था, जिसमें नेशनल असेंबली के पूर्व सदस्य डॉ. अरेश सिंह भी शामिल थे।
 

नुसरत मिर्जा ने बताया कि तत्कालीन उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी के न्योते पर भी वह भारत आया था। हामिद अंसारी 2007 से 2017 तक भारत के उपराष्ट्रपति रहे। नुसरत मिर्जा ने बताया कि उसने 5 बार भारत की यात्रा की. वह दिल्ली, बेंगलुरु, चेन्नई, पटना और कोलकाता गया। 2011 में मिल्ली गजट के प्रकाशक जफरुल इस्लाम खान से भी मिला था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!