बदायूं कछला घाट में हुई अखिल भारतीय ब्राह्मण महासभा प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक

सत्य पथिक वेबपोर्टल/बरेली/Social Work: अखिल भारतवर्षीय ब्राह्मण महासभा की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक बदायूँ कछला घाट स्थित ग़ोविन्द वल्लभ पंत डिग्री कालेज में आयोजित की गई। इस बैठक में कई महत्वपूर्ण प्रस्ताव पारित किए गए।

बैठक का शुभारम्भ भगवान परशुराम, देवी सरस्वती और महामना मालवीय जी के चित्रों के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन और माल्यार्पण के साथ हुआ। बैठक में मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, बिजनौर, मुरादाबाद, बरेली, बदायूँ, पीलीभीत, कासगंज, एटा, हाथरस, आगरा, मथुरा, झाँसी, फरुखाबाद जिलों से आए राष्ट्रीय, प्रदेशीय, मंडलीय और जिलास्तरीय पदाधिकारियों ने भाग लिया।

इस अवसर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष बीडी शर्मा ने मुख्य अतिथि की हैसियत से अपने संबोधन में कहा कि एकजुट ब्राह्मण ही जातीय भेदभाव सहित सभी बुराइयों को मिटा सकते हैं। गाँव से शहर तक संगठन को मजबूत करना होगा। दहेज प्रथा को रोकना अति आवश्यक है। सभी जिला संगठन गरीव ब्राह्मणों की सूची बनाकर राष्ट्रीय नेतृत्व को भेजें ताकि गरीब परिवारों की कन्याओं का सामूहिक विवाह समारोह कराया जा सके।
हर ब्राह्मण की चिंता करके उसे आगे बढ़ाना ही संगठन का लक्ष्य है।

राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुरेन्द्र पांडे ने कहा कि आज माँ-बाप के अधिकारों पर संकट है। बच्चे उनकी बात सुनने को तैयार नहीं हैं। श्रद्धा कांड जैसे कांड माँ बाप की अवहेलना के ही परिणाम हैं। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. वीपी शर्मा ने आरक्षण के कारण ब्राह्मणों सहित सभी सवर्णों के युवाओं के भविष्य की दुर्गति पर विचार रखे। पूर्व विधायक प्रेम स्वरूप पाठक ने कहा कि ब्राह्मणों का अतीत ही नहीं, भविष्य भी गौरवशाली है। आरक्षण के बावजूद ब्राह्मण युवा अपनी प्रतिभा के बल पर चमक रहे हैं।

बैठक में महिला प्रकोष्ठ की प्रदेश अध्यक्ष डॉ. मधु भारद्वाज द्वारा लिखित पुस्तक ‘आगरा की समृद्ध विरासत’ का विमोचन भी किया गया। डॉ. मधु भारद्वाज ने कहा कि महिलाओं को जागरूक, शिक्षित,सक्रिय और संगठित करना ही संगठन का उद्देश्य है। प्रदेश अध्यक्ष त्रिभुवन शर्मा ने सभी पदाधिकारियों का परिचय कराया।
बैठक में निम्नलिखित प्रस्ताव भी पारित किए गये:-
1-भगवान परशुराम जन्मोत्सव पर सार्वजनिक अवकाश घोषित किया जाये।
2-जनपद शाहजहांपुर के जलालाबाद का नाम बदलकर परशुराम पूरी रखा जाये। भगवान परशुराम की जनस्थली को पयर्टन स्थल घोषित किया जाये।
3-सभी पुरोहितों और पुजारियों को सरकारी खजाने से वेतन दिया जाये।
4-ब्राह्मण युवाओं को भी शिक्षा, राजनीति, न्याय, नौकरी में आरक्षण और प्रमोशन के समान अवसर उपलब्ध कराए जाएं। सरकारों द्वारा ब्राह्मणों के साथ किया जा रहा जातीय भेदभाव समाप्त किया जाये।
5-सवर्ण आयोग का गठन किया जाये।
बैठक के अंत में सभी राष्ट्रीय पदाधिकारियों को शाल उढ़ाकर सम्मानित किया गया। बदायूँ के जिलाध्यक्ष अवनीश भारद्वाज ने पूर्व जिलाध्यक्ष स्वर्गीय पंडित रामशंकर भारद्वाज की पुण्य स्मृति में प्रतीक चिन्ह भेंट किए। आए हुए सभी पदाधिकारियों को अंग वस्त्र उढ़ाकर सम्मानित किया गया। प्रदेश मंत्री राहुल चौवे ने आभार व्यक्त किया। अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष पंडित त्रिभुवन शर्मा और संचालन प्रदेश महामंत्री आचार्य राजेश शर्मा ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!