सत्य पथिक वेबपोर्टल/जयपुर-राजस्थान/Congress MLA resigns: जालौर में टीचर की पिटाई से दलित बच्चे की मौत की घटना पर राजस्थान की गहलोत सरकार चौतरफा घिर गई है। सरकार विपक्ष के बाद अब अपनों के भी निशाने पर भी आ गई है। विरोध में बारां-अटरु विधायक पानाचंद मेघवाल ने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है।

मेघवाल ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखकर अपनी नाराजगी जाहिर की है। पानाचंद मेघवाल ने प्रदेशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं देते हुए लिखा है कि आजादी के 75 साल बाद भी प्रदेश में दलित और वंचित वर्ग पर लगातार हो रहे अत्याचारों से उनका मन आहत है। उन्होंने लिखा, ”मेरा समाज आज जिस प्रकार की यातनाएं झेल रहा है, उसका दर्द शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है।”

जालौर की घटना से क्षुब्ध विधायक मेघवाल ने पत्र में लिखा है, ”प्रदेश में दलितों को कहीं मटकी से पानी पीने के नाम पर तो कहीं घोड़ी चढ़ने और मूंछ रखने पर घोर यातनाएं देकर मौत के घाट उतारा जा रहा है। जांच के नाम पर फाइलों को इधर से उधर घुमाकर न्यायिक प्रक्रिया को अटकाया जा रहा है। पिछले कुछ वर्षों से दलितों पर अत्याचार की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं।

विधायक मेघवाल ने लिखा, ऐसा प्रतीत हो रहा है कि बाबा साहेब डॉ. भीमराव आंबेडकर ने संविधान में दलितों और वंचितों के लिए जिस समानता के अधिकार का प्रावधान किया था, उसकी रक्षा करने वाला कोई नहीं है। दलितों पर अत्याचार के ज्यादातर मामलों में एफआर लगा दी जाती है। कई बार ऐसे मामलों को मैं विधानसभा में भी उठा चुका हूं, उसके बावजूद पुलिस प्रशासन हरकत में नहीं आया है।”

मेघवाल ने इस्तीफे का ऐलान करते हुए लिखा, ”जब हम हमारे समाज के ही लोगों के अधिकारों की रक्षा करने और उन्हें न्याय दिलवाने में नाकाम होने लगें तो हमें पद पर रहने का कोई अधिकार नहीं है। इसलिए मैं मेरी अंतरात्मा की आवाज पर विधायक पद से इस्तीपा देता हूं। इस्तीफा स्वीकार करें ताकि मैं बिना पद के ही समाज के वंचितों और शोषित वर्ग की सेवा कर सकूं।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!