सत्य पथिक वेबपोर्टल/नई दिल्ली/India reprimands WHO: गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत के लिए भारत में बने कफ सिरप पर ठीकरा फोड़ने और 4 कफ सिरप के लिए अलर्ट भी जारी करने के मामले में अब जांच रिपोर्ट सामने आने के बाद भारत ने WHO को जमकर फटकार लगाई है।

WHO ने पूरी दुनिया में भारत की छबि बिगाड़ी
भारत के ड्रग रेग्युलेटर (DCGI) यानी ड्रग्स कंट्रोल जनरल इंडिया की रिपोर्ट में हरियाणा में बने इन चारों कफ सिरप को स्टैंडर्ड क्वालिटी का बताया गया है। भारत के ड्रग कंट्रोलर ने WHO को पत्र लिखकर कहा, “गाम्बिया में हुई मौतों को भारत में बने कफ सिरप से जोड़ने में आपने जल्दबाजी दिखाई”। आगे यह भी कहा कि भारत की फार्मा कंपनी मैडेन फार्मास्यूटिकल्स में बने जिन 4 कफ सिरप का जिक्र किया गया था, उनके सैंपल को सरकारी लैबोरेटरी में टेस्ट किया गया। जांच में पाया गया कि इन चारों कफ सिरप में कोई समस्या नहीं है।

डीसीजीआई के ड्रग कंट्रोलर ने दावा किया है कि इन चारों प्रोडक्ट्स की क्वॉलिटी स्टैंडर्ड पारामीटर पर पूरी तरह खरी उतरीं। हमारे यहां दवाओं और कॉस्मेटिक्स की निगरानी बहुत गंभीरता से की जाती है। हम यह ध्यान रखते हैं कि हमारे यहां बने प्रोडक्ट्स हाई क्वालिटी के हों। DCGI डायरेक्टर डॉ. वीजी सोमानी ने WHO के डायरेक्टर डॉ. रोजरियो गास्पर को लिखा कि गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत पर आपने जल्दबाजी में निष्कर्ष निकाल दिया और पूरी दुनिया की मीडिया में भारतीय फार्मा सेक्टर के बारे में गलत जानकारी दी जाती रही।

फार्मा कंपनी में बन रहे सिरप की हुई थी जांच
कुछ हफ्ते पहले WHO ने चेतावनी देते हुए कहा था कि गाम्बिया में बच्चों की मौतों को भारतीय कंपनी के 4 कफ सिरप से जोड़ते हुए गाइडलाइन भी जारी की थी। इसके बाद केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (CDSCO) ने राज्य औषधि नियंत्रक, हरियाणा के सहयोग से सोनीपत के कुंडली में मेडेन फार्मास्युटिकल्स में बन रहे सिरप की जांच की थी। DCGI ने WHO के साथ पूर्ण सहयोग करने की बात को दोहराया और कहा कि CDSCO पहले ही WHO के साथ सारे डाटा शेयर कर चुका है।

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) ने 5 अक्टूबर को भारत की फार्मास्युटिकल्स कंपनी के बनाए 4 कफ-सिरप को लेकर अलर्ट जारी किया था। WHO ने कहा था कि ये प्रोडक्ट मानकों पर खरे नहीं हैं। ये सुरक्षित नहीं हैं, खासतौर से बच्चों में इनके इस्तेमाल से गंभीर समस्या या फिर मौत का खतरा है। WHO ने रिपोर्ट में आगे कहा था कि कफ-सिरप में डायथेलेन ग्लाईकोल (diethylene glycol) और इथिलेन ग्लाईकोल (ethylene glycol) की इतनी मात्रा है कि वजह इंसानों के लिए जानलेवा हो सकते हैं।
सिरप उत्पादन पर लगा दी गई थी रोक
स्वास्थ्य अधिकारियों ने इस आरोप के बाद हरियाणा के सोनीपत के कुंडली में मेडेन फार्मास्युटिकल्स में बन रहे सिरप के उत्पादन पर रोक लगा दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!