कई लोग तो अंतरिक्ष की सैर कर भी चुके, बुकिंग करवा चुके 800 लोगों की पेनसिलवैनिया में चल रही सघन ट्रेनिंग, 2025 तक साल में 400 फ्लाइट्स की तैयारी

सत्य पथिक वेबपोर्टल/वाशिंगटन/space tourism: अंतरिक्ष यात्रा अब सिर्फ सपना नहीं हकीकत बनने जा रही है। हां, इसके लिए रकम भरपूर खर्च करनी होगी। यही नहीं, कुछ लोग रोमांचक अंतरिक्ष यात्रा पूरी कर सकुशल धरती पर लौट भी आए हैं।

जल्दी ही साल भर में 400 फ्लाइट्स धरती से अंतरिक्ष के लिए उड़ान भरेंगी। यानी हर रोज कम से कम एक फ्लाइट। कई लोग अंतरिक्ष की सैर करके लौट भी आए हैं जबकि 800 से अधिक लोगों ने अंतरिक्ष की फ्यूचर ट्रिप के लिए अपने टिकट बुक करा दिए हैं। सुरक्षित अंतरिक्ष यात्रा के लिए इन दिनों इन सबकी सघन ट्रेनिंग चल रही है।

स्पेस टूरिज्म के सपने को सच कर दिखाने के लिए दुनिया के तीन महाअमीरों- रिचर्ड ब्रैनसन की कंपनी Virgin Galactic, जेफ बेजोस की कंपनी Blue Origin और एलॉन मस्क की कंपनी SpaceX पूरी शिद्दत से इस मिशन में जुटी हैं। अब चीन की एक कंपनी भी बड़े प्लान के साथ आगे आई है। साथ ही कई और भी देशों में इस प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा हैं।

दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलॉन मस्क की कंपनी Space-X साल 2021 में चार लोगों को अंतरिक्ष की सैर करा भी चुकी है। करोड़ों की इस ट्रिप को अमेरिकी कारोबारी Jared Isaacman ने स्पॉन्सर किया था। उनोंने ही बाकी के तीन लोगों को अलग-अलग फील्ड से अपने साथ ले जाने के लिए चुना था। Virgin Galactic और Blue Origin के बाद Space-X तीसरी ऐसी कंपनी थी जिसने अंतरिक्ष टूरिज्म के लिए ट्रिप मुहैया कराई।

क्या है आगे की तैयारी?

अंतरिक्ष की सैर के लिए तैयारी किस लेवल पर जारी है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि Virgin Galactic कंपनी दो ऐसे एयरक्राफ्ट करियर तैयार कर रही है जिससे अंतरिक्ष के लिए सैंकड़ों फ्लाइट्स लॉन्च करने की क्षमता हासिल की जा सके। Virgin Galactic कंपनी ब्रिटिश अरबपति Richard Branson की है. इन फ्लाइट्स के लिए लोग 200,000 अमेरिकी डॉलर यानी डेढ से दो करोड़ भारतीय रुपये में अपनी सीट बुक करा रहे हैं। लोगों के उत्साह और बुकिंग की डिमांड देखते हुए साल 2025 तक यह कंपनी साल में अंतरिक्ष की 400 फ्लाइट्स तक चलाने की योजना पर काम कर रही है।

Blue Origin पिछले महीने यानी जून 2022 तक पांच ऐसे ट्रिप सफलतापूर्वक पूरे कर भी चुकी है। स्पेस-एक्स अगले कुछ वर्षों में ऐसे चार और ट्रिप की तैयारी में जुटी है। जापान के उद्योगपति Yusaku Maezawa ने 2023 के लिए स्पेस-एक्स से एक फ्लाइट बुक की है और 8 अन्य लोगों को अपने साथ जाने के लिए इनवाइट किया है। Virgin Galactic का कहना है कि फ्यूचर ट्रिप की तैयारियां जोरों पर हैं। 800 से अधिक लोग वेटिंग में हैं। स्पेस-एक्स का प्लान आने वाले वक्त में अंतरिक्ष के साथ-साथ मून और मार्स पर भी फ्लाइट्स भेजने का है। बल्कि च॔द्रमा उपग्रह और मंगल ग्रह पर इंसानी बस्ती बसाने के अपने प्लान का भी एलॉन मस्क कई बार जिक्र कर चुके हैं। अभी अंतरिक्ष ट्रिप के लिए साढे तीन करोड़ रुपये(भारतीय करेंसी में) तक का खर्च आ रहा है लेकिन कंपनियों की तैयारी है कि शॉर्ट ट्रिप और रियूजेबल स्पेस यान तैयार कर इस खर्च को डेढ करोड़ रुपये तक लाया जा सकता है।

रोज औसतन एक फ्लाइट भरेगी अंतरिक्ष की उड़ान Virgin Galactic कंपनी 15 साल से इस मिशन पर लगी थी। साल 2021 में पहली कामर्शियल मानव युक्त फ्लाइट को अंतरिक्ष में भेजने में कंपनी को सफलता मिली। पहली फ्लाइट में वर्जिन ग्रुप के मालिक रिचर्ड ब्रैंसन भी सवार थे। अब ऐसी अगली फ्लाइट 2023 में भेजने की तैयारी है और साल 2025 तक सालाना 400 से अधिक फ्लाइट्स भेजने की क्षमता हासिल करने पर कंपनी काम कर रही है।

बदलेगा दुनिया में हवाई यात्रा का अंदाज भी

चीन की एक कंपनी CAS Space छोटे यान और रॉकेट अंतरिक्ष में भेजने और रियूजेबल स्पेन यान तैयार करने की प्रौद्योगिकी विकसित करने में जुटी है। 2023 में यह कंपनी अपनी पहली टेस्ट फ्लाइट भेजेगी। अंतरिक्ष टूरिज्म की इसी तकनीक का इस्तेमाल कर चीन के एक स्टार्टअप ने दुनिया के बड़े शहरों जैसे बीजिंग-दुबई आदि को एक घंटे की फ्लाइट से जोड़ने के प्लान पर भी काम शुरू किया है।

कहां, कैसे और क्या चल रही है ट्रेनिंग ?

अमेरिका के पेंसिलवेनिया में Virgin Galactic की ओर से अपने फ्यूचर स्पेस टूरिस्ट्स के लिए National Aerospace Training and Research Center में ट्रेनिंग दिलाई जा रही है। इसमें लोगों को स्पेस यात्रा के दौरान सुरंग की तरह बने रॉकेट या कैप्सूल में बैठने और गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव का सामना करने के गुर सिखाए जा रहे हैं। साथ ही ब्लड टेस्ट करने के साथ ही सांसों को कंट्रोल करने की क्षमता और तमाम दीगर शारीरिक जांचों पर भी फोकस किया जा रहा है।

12 अप्रैल, 1961 को सोवियत एस्ट्रोनॉट यूरी गागरिन अंतरिक्ष में पहुंचने वाले पहले इंसान बने थे। उसके करीब 60 साल बाद आज इंसान अंतरिक्ष ट्रिप और टूरिज्म करने के काबिल बन पाया है। नई-नई चीजों में रूचि रखने वाले लोगों के लिए यह अच्छा मौका होगा जब इस संसार के उस पार जाकर वे ब्रहांड के नए रहस्यों से रूबरू हो सकेंगे और अपनी इस प्यारी धरती को अंतरिक्ष से देख सकेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!