‘आजादी के अमृत महोत्सव’ पर 75 दिन चलेगा विशेष अभियान, राज्यों को जारी किए गए निर्देश

सत्य पथिक वेबपोर्टल/नई दिल्ली/Covid-19 Booster Dose:देश में अभी भी कोरोना महामारी के रोजाना 15 हजार से अधिक नए रोगी मिलने की वजह से भविष्य में बड़े खतरे की आशंका के मद्देनजर भारत सरकार ने अब 18 से 59 वर्ष के सभी वयस्कों को एहतियाती या बूस्टर खुराक (Precaution or Booster Dose) मुफ्त देने का फैसला किया है।

15 जुलाई शुक्रवार सुबह ‘आजादी के अमृत महोत्सव’ के अगले 75 दिन तक मुफ्त एहतियाती खुराक देने का यह अभियान दिल्ली-एनसीआर, उत्तर प्रदेश और सभी राज्यों-केंद्र शासित प्रदेशों में सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों पर जोरशोर से शुरू हो गया है।

बूस्टर डोज लगवाना इसलिए भी जरूरी है कि अभी तक 18-59 वर्ष की लक्षित 77 करोड़ आबादी में मात्र एक प्रतिशत से भी कम लोगों ने बूस्टर डोज लगवाई है।

बूस्टर डोज लेने की मियाद घटी
कोरोना संक्रमण होने पर मौत से बचाने और गंभीर लक्षण रोकने में वैक्सीन की अहम भूमिका साबित हो चुकी है। इसी बीच स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड रोधी वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के बाद बूस्टर डोज लेने की समय सीमा को भी नौ महीने से घटाकर छह महीने कर दिया है। अब 18 साल से अधिक उम्र का कोई भी व्यक्ति सरकारी टीकाकरण केंद्र पर जाकर बूस्टर डोज लगवा सकता है।

केंद्र सरकार ने राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों को सुझाव दिया है कि स्पुतनिक-वी टीके की पर्याप्त खेप निजी टीकाकरण केंद्रों तक पहुचाई जाए ताकि शुल्क देकर लोगों को दूसरा टीका लग सके। साथ ही स्पूतनिक वी की बूस्टर डोज की उपलब्धता भी इन निजी कैंद्रों पर सुनिश्चित कराएं।

राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को गुरुवार को लिखे पत्र में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि स्पुतनिक-वी टीके की एहतियाती खुराक लगवाने वालों की अनुमानित संख्या की केवल 0.5 प्रतिशत वैक्सीन ही अभी तक उठाई गई है। उन्होंने कहा कि निजी कोविड टीकाकरण केंद्रों में वैक्सीन की दो खुराक लगवाने वालों को स्पुतनिक-वी के कंपोनेंट-1 की एहतियाती खुराक दी जा सकती है।स्वास्थ्य सचिव ने राज्यों से स्पुतनिक वी टीके (कंपोनेंट-1) की उपलब्धता और निजी कोविड टीकाकरण केंद्रों की सक्रियता सुनिश्चित करने को कहा है।

बता दें कि 12 से 18 साल की उम्र के बच्चों के टीकाकरण को भी स्कूल आधारित अभियानों के जरिए पूरा किया जाएगा। टीकाकरण में तेजी लाने के लिए केंद्र सरकार ने एक जून से दूसरी बार ‘हर घर दस्तक 2.0’ डोर-टू-डोर अभियान भी शुरू किया है।

अभी नहीं लगेंगे 12 साल से कम के बच्चों को टीके
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने गुरुवार को ब॔गलुरु में कहा कि सरकार को 12 साल से कम आयु के बच्चों को लिए कोविड-19 टीका लगवाने की वैज्ञानिक समुदाय से अभी सलाह नहीं मिली है। वैज्ञानिकों की हरी झंडी मिलने के बाद ही 12 वर्ष से कम के बच्चों को टीके लगवाए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!