सत्य पथिक वेबपोर्टल/नई दिल्‍ली (एजेंसी)। राजस्‍थान में मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत (Rajasthan CM Ashok Gehlot) की कुर्सी पर खतरा मंडराने लगा है। कांग्रेस महासचिव केसी वेणुगोपाल ने भी गुरुवार को इसके संकेत दिए। अशोक गहलोत राजस्थान के सीएम बने रहेंगे, या नहीं?-समाचार एजेंसी एएनआई के संवाददाता के इस सवाल पर पार्टी महासचिव केसी वेणुगोपाल ने कहा कि राजस्थान के सीएम पद पर फैसला कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी 1-2 दिन में करेंगी।

सूत्रों का कहना है कि हाल ही में राजस्‍थान में सीएम पद को लेकर मची खींचतान ने कांग्रेस आलाकमान को नाराज किया है। खासकर गहलोत खेमे के विधायकों की गोलबंदी कांग्रेस आलाकमान को चुभ गई है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बृहस्पतिवार को सोनिया गांधी को मनाने की कोशिश की। साथ ही, जयपुर में विधायक दल की बैठक नहीं करा पाने के लिए पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से माफी मांगते हुए यह भी साफ कर दिया कि वह अब अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ेंगे।

खुद अशोक गहलोत ने भी कांग्रेस के मौजूदा सियासी संकट पर अफसोस जताया है। गहलोत ने संवाददाताओं से कहा कि मैं 50 साल से कांग्रेस का वफादार सिपाही रहा हूं। दो दिन पहले हुई घटना से दुखी हूं। मैंने सोनिया जी से माफी भी मांगी है। राजस्‍थान के नए सीएम के मसले पर विधायक दल की बैठक में एक लाइन का प्रस्ताव पारित कराना मेरी नैतिक जिम्मेदारी थी जिसे मैं पारित नहीं करा पाया। इसी वजह से मैंने फैसला किया है कि अब मैं अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ूंगा।

एएनआइ संवाददाता के सीएम बने रहने के सवाल पर गहलोत ने भी कहा कि इस बारे में फैसला सोनिया जी ही करेंगी। जाहिर है राजस्‍थान में सीएम पद को लेकर जारी सियासी असमंजस से पर्दा आलाकमान ही हटाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!