मेरठ/Haji Galla’s kothi seized/सत्य पथिक वेबसाइट: मेरठ में सोतीगंज के सबसे बड़े कबाड़ी हाजी नईम उर्फ गल्ला की चार करोड़ रुपये से ज्यादा कीमत की कोठी शनिवार को मजिस्ट्रेट के आदेश पर पुलिस ने जब्त कर ली है। हाजी गल्ला के खिलाफ चोरी, लूट के वाहन खरीदने के 32 मुकदमे अलग-अलग थानों में दर्ज हैं। गैंगस्टर के मामले में हाजी गल्ला मेरठ की जेल में बंद है। उसके चारों बेटे भी जेल में हैं।


शनिवार को एएसपी मेरठ (IPS) सूरज राय 5 थानों के 150 से ज्यादा सशस्त्र जवानों, 3 सीओ और मजिस्ट्रेट के साथ पटेल नगर पहुंचे और लाउड स्पीकर से एनाउंस कराया कि हाजी गल्ला के खिलाफ 30 से ज्यादा मुकदमे हैं। वाहन चोरी करने, चोरी के वाहन खरीदने और उन्हें कटवाने के अवैध काम करता है। अपराध की काली कमाई से बनवाई गई पटेल नगर की हाजी गल्ला की कोठी को मजिस्ट्रेट ने जिलाधिकारी के आदेश पर कुर्क करवा दिया। अब इस संपत्ति का कोई भी क्रय व विक्रय नहीं कर सकता।

6 गोदामों, दो मकानों का मालिक है हाजी गल्ला

हाजी नईम उर्फ गल्ला (60) मेरठ के सदर बाजार थाना क्षेत्र के सोतीगंज का रहने वाला है। सोतीगंज व सदर बाजार इलाके में गल्ला के 6 गोदाम हैं। इन गोदामों में चोरी व लूट के वाहन काटे जाते थे। सोतीगंज और सदर में दो मकान हैं।

चोरी की रकम से खरीदी आलीशान कोठी

एएसपी मेरठ सूरज राय ने बताया कि हाजी नईम ने 2016 में देहलीगेट थाना क्षेत्र के पटेलनगर में 353 वर्ग गज में 3 मंजिला आलीशान कोठी सवा 2 करोड़ रुपए में खरीदी थी। इस समय इस कोठी की कीमत सरकारी तौर पर 4 करोड़ 10 लाख रुपए है। कई प्लाट सदर बाजार इलाके में हैं, जिनमें ऊंची बाउंड्री कर गोदाम बना रखे हैं। उत्तराखंड में भी संपत्ति खरीदी है।

25 साल में खड़ा किया करोड़ों का कारोबार

हाजी गल्ला ने पिछले 25 सालों में करोड़ों रुपये का काला कारोबार खड़ा किया है। मेरठ में पूर्व में तैनात रहे एक अधिकारी ने बताया कि 1995 में गल्ला ने सोतीगंज में दिल्ली रोड पर गाड़ियों की रिपेयरिंग की दुकान खोली थी। वह वाहन मिस्त्री से कबाड़ी बन गया।

अफसरों के ट्रांसफर की धमकी देता था

2017 से पहले पुलिस ने गल्ला के घर कभी दबिश नहीं दी थी। गल्ला सत्ताधारी नेताओं से साठगांठ रखता था। मेरठ के सोतीगंज में 500 से ज्यादा दुकानें कबाड़ियों की हैं। सपा सरकार में गल्ला ने एक मंत्री से साठगांठ कर रात में ही इंस्पेक्टर और एक उच्च अधिकारी का ट्रांसफर करा दिया था। थानों में खुलेआम कहता था कि गल्ला पर हाथ डालने का मतलब है मेरठ से ट्रांसफर। एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने सोतीगंज के 15 कबाड़ियों को जेल भेजा, जिनमें हाजी नईम भी शामिल है।

एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि मजिस्ट्रेट के आदेश पर हाजी नईम उर्फ गल्ला की कोठी को जब्त कर सरकार से अटैच कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!