नई दिल्ली/Corona Vaccination/सत्य पथिक न्यूज नेटवर्क:जून माह में देश भर में कोविड वैक्सीन के 12 करोड़ टीके लगाए जाएंगे। यह संख्या पिछले साढ़े चार महीने में पूरे देश में लगाए गए कुल 21 करोड़ टीकों का लगभग 60 फीसद है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जून में 12 करोड़ टीकों की उपलब्धता का दावा करते हुए जरूरी दिशानिर्देशों के साथ आपूर्ति की समय-सारिणी भी सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को भेज दी है।


हर रोज 40 से 60 लाख टीके लगाने की चुनौती

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मई की तुलना में जून में देश में डेढ़ गुना ज्यादा टीके उपलब्ध होंगे, जो जुलाई में बढ़कर दो गुना से भी ज्यादा होने की उम्मीद है। मई माह में देश में कुल 7.94 करोड़ टीके उपलब्ध कराए गए जबकि जून में 11.96 करोड़ और जुलाई में 18 करोड़ टीके उपलब्ध होंगे। 31 जुलाई तक 51.6 करोड़ डोज के हिसाब से देखे तो डोज उपलब्ध होंगी। उपलब्धता के हिसाब से जहां जून में प्रतिदिन लगभग 40 लाख टीके लगाने होंगे, वहीं जुलाई में स्वास्थ्य कर्मियों को प्रतिदिन 60 लाख टीके लगाने की बेहद मुश्किल चुनौती से जूझना पड़ेगा।


राज्यों को मुफ्त मिलेंगे 6.10 करोड़ टीके

उक्त अधिकारी ने बताया कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को वैक्सीन की उपलब्धता और आपूर्ति की समय-सारिणी भेज दी गई है, ताकि वे उसी के अनुरूप टीकाकरण अभियान की रूपरेखा तैयार कर सकें। जून महीने में उपलब्ध होने वाली कुल 11.96 डोज में से 6.10 करोड़ डोज केंद्र सरकार मुफ्त में राज्यों को उपलब्ध कराएगी, जो हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स के साथ-साथ 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को लगाई जाएगी। इसके अलावा राज्य सरकारों और निजी क्षेत्र के लिए 5.86 करोड़ डोज उपलब्ध होंगी, जिन्हें 18 से 44 साल के लोगों को लगाया जाएगा। वैसे सरकार ने ये साफ नहीं किया है कि 11.96 करोड़ डोज में कोवैक्सीन और कोविशील्ड का अनुपात क्या होगा? लेकिन यह तय है कि इसमें स्पुतनिक-वी को शामिल नहीं किया गया है। डा. रेड्डीज लेबोरेटरीज ने जून महीने में हर हफ्ते 10 लाख स्पुतनिक-वी के डोज लगाए जाने का ऐलान किया है। जाहिर है इससे वैक्सीन की उपलब्धता में और इजाफा होगा।

जून में मिलेंगी कोविशील्ड की 10 करोड़ डोज

सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया (एसआइआइ) ने सरकार को बताया है कि वह जून में कोविशील्ड की नौ से 10 करोड़ टीकों की सप्लाई करने में सक्षम होगी। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को लिखे पत्र में सीरम ने बताया कि तमाम चुनौतियों के बावजूद हमारे कर्मचारी वैक्सीन उत्पादन, ट्रायल और आपूर्ति के काम में रात-दिन जुटे हैं। भारत सरकार के सहयोग से कंपनी अपनी पूरी क्षमता का उपयोग करने की पूरी कोशिश भी कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!