सत्य पथिक वेबपोर्टल/बरेली: महानगर बरेली की साहित्यिक संस्था “साहित्य सुरभि”की मासिक तृतीय रविवासरीय काव्यगोष्ठियों की श्रंखला में ३४८वीं कड़ी रविवार १९२०२३ को विश्वमहिला दिवस पर श्रीमती ज्ञान देवी “सत्यम” की अध्यक्षता एवं श्रीमती शिवरक्षा पांडेय के मुख्य आतिथ्य ( दोनों शिक्षा विभाग से सेवानिवृत) में सम्पन्न हुई।

निर्दोष कुमार “बिन” की सरस्वती वंदना से कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ। गोष्ठी में उपस्थित कवियों ने अपनी मौलिक कविताओं के माध्यम से सामाजिक विसंगतियों पर प्रहार किए। साथ ही श्रृंगार ( संयोग वियोग) , हास्य व्यंग और अन्य विविध विषयों पर अपने हृदय स्पर्शी भावों की सुधी श्रोतागणों के मन-मस्तिष्क पर गहरी छाप छोड़ी। जन समूह ने करतल ध्वनि की गूंज और वाह-वाह से से कवियों की रचनाओं को खूब सराहा। काव्य रसों का आनंद देर रात तक चला और तालियों की गूंज से हिंदी भवन में गूंजता रहा ।
मनोज दीक्षित टिंकू ने हास्य व्यंग की पहेलियों से सबको खूब गुदगुदाते हुए रोचक ढंग से सफल मंच संचालन किया। गोष्ठी के आयोजक प्रख्यात गज़लकार कृष्ण भक्त सुभाष राहत बरेलवी द्वारा कवियों को अल्पाहार कराकर विदा किया गया। संस्था के वरिष्ठ उपाध्यक्ष एसए हुदा सोंटा ने सभी उपस्थित कवियों का आभार व्यक्त करते हुए हिन्दी भाषा को अधिक से अधिक प्रयोग में लाने पर जोर दिया।
गोष्ठी में राममूर्ति गौतम गगन, ब्रिजेन्द्र अकिंचन, रणधीर प्रसाद गौड़ धीर, निर्दोष कुमार बिन, गजेन्द्र सिंह चौहान, सुभाष राहत बरेलवी, राम कुमार भारद्वाज अफ़रोज, मनोज दीक्षित टिंकू, शिवशंकर यजुर्वेदीय ,राम शंकर शर्मा प्रेमी,पीयूष गोयल बेदिल, अंकित गुप्ता,डा राजेश कुमार शर्मा ककरेलवी,, मिलन कुमार, एस ए हुदा सोंटा,राम कुमार कोली, जगदीश निमिष, एवं श्रीमती ज्ञान देवी वर्मा सत्यम, शिव रक्षा पांडेय आदि का सराहनीय योगदान रहा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!