कृष्ण भक्ति के आनंद सागर में रोजाना डूबते-उतराते हैं भक्तजन

सत्य पथिक वेबपोर्टल/मीरगंज-बरेली/Bhagwat Katha: मीरगंज ब्लाॅक के दूरदराज गांव ठिरिया बुजर्ग में श्री राधा कृष्ण मंदिर पर श्री मद्भागवत कथा में पांचवें दिन वृन्दावन धाम से आए प्रख्यात कथाव्यास स्वामी श्री बृजभूषणाचार्य जी महाराज ने भगवान कृष्ण की बाल लीलाओं, पूतना वध, माखन चोरी ब गोपियों संग रासलीला जैसे प्रसंगों का बड़े ही मार्मिक ढंग से वर्णन किया।

बताया- जब किसी दिन कृष्ण गोपियों के घर माखन चोरी करने नहीं जाते थे तो गोपियां कन्हैया के वियोग में व्याकुल हो जाती थीं। ग्वाल बालों के संग कन्हैया की क्रीड़ा और कालिय नाग को नाथने और इंद्र के मानमर्दन, गोवर्धन पूजा की कथाएं भी बहुत ही रोचक शैली में सुनाईं। कथाव्यास ने बताया कि नंदगांव वाले देवराज इंद्र की पूजा करते थे। श्रीकृष्ण ने गोकुल वासियों को समझाया कि गोवर्धन पर्वत महाराज गायों को भोजन, चूल्हों में जलाने को लकड़ी, खाने को फल-फूल और जीवन की सभी सुविधा देते हैं। इसलिये गोवर्धन पर्वत की ही पूजा करनी चाहिए।

इस पर इंद्रदेव नंदगांव वासियों पर कुपित हो गए। उन्होंने गोकुल पर सात दिन तक लगातार भयंकर जल वर्षा की। अतिवृष्टि से सारे ग्वाल घबराकर रक्षा के लिए कन्हैया के पास आये और इंद्र के कोप से बचाने की प्रार्थना की। श्रीकृष्ण ने एक उंगली पर गोवर्धन को धारण कर इंद्र का मानमर्दन करते हुए सभी की रक्षा की। भयंकर वर्षा के जल को अगस्त्य ऋषि ने पी लिया।

स्वामी बृजभूषणाचार्य जी के मुखारविंद से भगवान कृष्ण की अमृतमयी कथाएं सुनकर और मधुर भजन-कीर्तन करके श्रद्धालु कृष्ण लीला में भावविभोर हो गए। आचार्य जी की कथा में रोजाना श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ रही है। कथा पंडाल खचाखच भर जाता है। कथा सुनने को आसपास के गांववालों के अलावा बरेली,मीरगंज से भी काफी लोग पहुंच रहे हैं।

कथा सुनने के लिए अखिल भारतीय ब्राह्मण सभा के जिलाध्यक्ष अरुण शुक्ला, मुकेश पांडे, लवलेश पाठक, अनिल शुक्ला, भाजपा नेता सुधीर शर्मा, फौजी अनुज पांडे, कवि देवेंद्र शर्मा, परीक्षित अशोक उपाध्याय, मुकेश सिंह, राजीव सारस्वत, टिंकू भारद्वाज, मिंटू भारद्वाज, महेंद्र सिंह और अन्य पुरुषों, महिलाओं और बच्चों ने भी भारी तादाद में उपस्थिति दर्ज कराई। आरती, प्रसाद वितरण के साथ कथासत्र को विश्राम दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!