सत्य पथिक वेबपोर्टल/मीरगंज-बरेली/Murder: थाना मीरगंज के गांव तिलमास में शुक्रवार को बहू ने सिर पर डंडा मारकर ससुर की हत्या कर दी और मायके वालों के साथ मौके से फरार हो गई। पुलिस ने मुख्य आरोपी महिला समेत तीन लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

जानकारी के मुताबिक, गांव तिलमास की पश्चिमी गौटिया निवासी कुंवरसेन का पत्नी फूला देवी से अक्सर झगड़ा होता रहता है। शुक्रवार सुबह भी पति-पत्नी में झगड़ा हुआ था। महिला ने अपने भाई जीवन और चाचा ज्ञानी को भी ससुराल में बुलवा लिया। मायके पक्ष के लोग जब ससुराल पहुंचे तो कुंवरसेन खेत पर गया था ससुर मूलचंद घर पर ही थे। ससुर ने पुत्र वधू के मायके वालों को समझाते हुए कहा कि बातचीत करके कोई रास्ता निकाल लो। दोनों पक्ष बातें कर ही रहे थे कि इसी बीच कुंवरसेन भी पहुंच गया। आरोप है कि साला जीवन चचिया ससुर ज्ञानी उसे पीटने लगे। ससुर मूलचंद बीच-बचाव को आए तो बहू फूला देवी ने उन पर डंडे से जोर से हमला कर दिया। सिर में डंडा लगते ही ससुर मूलचंद की मौके पर मौत हो गई। सूचना पर मीरगंज सीओ आरके मिश्रा, एसओ सतीश कुमार पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए और परिजनों-ग्रामीणों से घटना की जानकारी ली। कुंवरसेन ने थाने में तहरीर देकर साले जीवन, चचिया ससुर ज्ञानी निवासी खुजरिया शाह और अपनी पत्नी फूला देवी के खिलाफ पिता की हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है।

बताते हैं कि घर के काम को लेकर पति-पत्नी में अक्सर कहासुनी होती रहती थी। महिला ने घर में ही बंटवारा कर रखा था। बीते 4 माह से अलग कमरे में रहकर अपने और बच्चों के लिए खाना बना रही थी जबकि पिता पुत्र अपने लिए अलग खाना बनाते थे। फूला देवी का शादी के बाद से ही पति कुंवरसेन से मनमुटाव रहता था। पति से झगड़ा होने पर वह गुस्से में मायके चली जाती थी। गुस्सा खत्म होने पर पति के बुलाने पर घर लौट आती थी। कुंवरसेन के सभी चार भाइयों की शादी हो चुकी है। सभी भाई गांव में अलग-अलग मकानों में अपने अपने परिवार के साथ रहते हैं। कुंवरसेन पिता मूलचंद और पत्नी तथा 4 बच्चों के साथ पश्चिमी गौंटिया के मकान में रहता है। घर के काम को लेकर फूला देवी की कुंवरसेन से अक्सर नोकझोंक होती रहती थी। राशन कार्ड फूला देवी के नाम से बना है। लिहाजा परिवार के सभी सदस्यों का राशन लाकर अपने घर में रखती थी। शुक्रवार की सुबह भी उसका पति से झगड़ा हुआ था। झगड़ा होने के बाद कुंवरसेन खेत में पानी लगाने चला गया। मृतक के पुत्र नेकसिंह ने बताया कि जब मायके वाले आए तो उस समय पिता उसके मकान में बैठे थे। उन्होंने गुस्साए साले और चचिया ससुर को बहुत समझाया लेकिन वे नहीं माने। कुंवरसेन के आते ही आरोपियों ने उसे पीटना शुरू कर दिया। पिता बीच-बचाव करा रहे थे। झगड़े में सिर में झंडा लगने से पिता की मौत हो गई। हमारे मौके पर पहुंचने से पहले ही तीनों भाग गए। मीरगंज एसओ सतीश कुमार ने बताया कि पति पत्नी के झगड़े को लेकर तिलमास गांव में विवाद हुआ था झगड़े में सिर में डंडा लगने से वृद्ध की मौत हो गई है।       

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!