सत्य पथिक वेबपोर्टल/नई दिल्ली/ एजेंसियां/India sent $3.8 billion help to ShriLanka: भारत अब तक के सबसे खराब आर्थिक दौर से गुजर रहे श्रीलंका का सबसे बड़ा मददगार बनकर उभरा है। भयंकर आर्थिक संकट से जूझ रहे अपने इस पड़ोसी को भारत इस साल अब तक $3.8 बिलियन डालर की मदद भेज चुका है।

श्रीलंका के अंदरूनी आर्थिक हालात इस कदर बिगड़ चुके हैं कि उसके सरकारी खजाने में और आम नागरिकों के पास रोजमर्रा का जरूरी सामान खरीदने तक को पैसे नहीं बचे हैं। श्रीलंका पर 51 अरब डालर से ज्यादा का विदेशी कर्ज है। इस आर्थिक संकट से निकलने के लिए श्रीलंका को कम से कम 4 अरब डालर की जरूरत है।

ऐसे में भारत एक सच्चे पड़ोसी के नाते उसकी मदद को आगे आया है। इस साल अब तक भारत श्रील॔का को 3.8 बिलियन डॉलर की आर्थिक सहायता दे भी चुका है। अतिरिक्त आर्थिक मदद पाने के लिए श्रीलंका वर्ल्ड बैंक के साथ-साथ चीन और जापान जैसे देशों से भी बात कर रहा है। हालांकि, इन सबके बीच भारत उसका मजबूत साथी बनकर उभरा है।

भारतीय विदेश मंत्रालय के मुताबिक, भारत इस साल अब तक श्रीलंका को 3.8 बिलियन डालर की मदद कर चुका है। इसके अलावा, भारत उसकी बुनियादी चीजों जैसे खाने-पीने का सामान और दवाओं की कमी को पूरा करने में भी मदद कर रहा है। भारत का कहना है कि श्रीलंका का करीबी पड़ोसी और उसके साथ ऐतिहासिक संबंध होने के नाते, भारत उसके लोकतंत्र, स्थिरता और आर्थिक स्थिति में सुधार को लेकर पूरी तरह उसके साथ है।

विदेश मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा, ‘भारत श्रीलंका का निकटतम पड़ोसी है। हम दोनों देश साझा संस्कृति के सदियों पुराने गहरे बंधन में बंधे हुए हैं। हम श्रीलंका के लोगों के साथ मजबूती से खड़े हैं क्योंकि हमारी ‘पड़ोस प्रथम’ नीति में श्रीलंका का महत्वपूर्ण स्थान है। इसीलिए भारत ने श्रीलंका की गंभीर आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए इस वर्ष हम अब तक उसे 3.8 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक की बड़ी और अभूतपूर्व आर्थिक सहायता दे चुके हैं। साथ ही
हम श्रीलंका में हाल के घटनाक्रमों पर बारीकी से नजर बनाए हुए हैं। भारत श्रीलंका में लोकतांत्रिक साधनों और मूल्यों, स्थापित संस्थानों और संवैधानिक ढांचे की सुरक्षा, समृद्धि और प्रगति के लिए वहां के लोगों की हरसंभव मदद को वचनबद्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!