पेन्नी मॉर्डान्ट की चुनौती को पार कर क्या बन पाएंगे ब्रिटेन के नए PM?

सत्य पथिक वेबपोर्टल/लंदन/Race for PM in Britain: ब्रिटेन में पीएम पद की रेस अब रोमांचक दौर में पहुंच चुकी है। बुधवार को लंदन में एलिमिनेशन राउंड की वोटिंग हुई। इस राउंड में भारतीय मूल के पूर्व वित्त मंत्री ऋषि सुनक 88 यानी 25 फीसदी वोट लेकर फिलहाल रेस में टॉप पर हैं। सुनक कंजरवेटिव पार्टी में सबसे आगे चल रहे हैं लेकिन उनके सामने ब्रिटिश सांसदों का समर्थन जुटाने की चुनौती है।

बुधवार को हुए एलिमिनिशेन राउंड की वोटिंग में ऋषि सुनक को चुनौती दे रही हैं 19 फीसदी यानी 67 वोट हासिल करने वाली दूसरे नंबर पर रहीं पेन्नी मॉर्डान्ट। लिज ट्रॉस को 14 फीसदी यानी 50 वोट और केमी बेडेनोक को 11 फीसदी यानी 40 वोट मिले हैं। टॉम टुजैन्ट 37 वोट लेकर 5वें नंबर पर हैं. जबकि भारतीय मूल की सुएला ब्रेवरमैन 9 फीसदी यानी 32 वोट लेकर छठे नंबर पर हैं।

एलिमिनेशन राउंड में वोटिंग से पहले सभी उम्मीदवारों ने 12-12 मिनट के भाषण में कंजरवेटिव पार्टी के सांसदों के सामने अपनी उम्मीदवारी की जोरदार पैरवी की।

कम वोट मिलने दो दावेदार रेस से हुए बाहर
वहीं एलिमिनेशन राउंड में दो उम्मीदवारों नदीम जहावी और जर्मी हंट क्रमश: 7 और 5 फीसदी वोट ही हासिल कर पाए और पीएम पद की इस रेस से बाहर हो गए हैं।

ऋषि सुनक के सामने सबसे बड़ी चुनौती कंजरवेटिव पार्टी में अपना नेतृत्व स्थापित करने की है। कंजरवेटिव पार्टी में नेता चुनने की प्रक्रिया में सांसदों की एक कमेटी शामिल होती है। नेता चुनने के लिए तीन चरण (rounds) होते हैं- नॉमिनेशन, एलिमिनेशन और फाइनल राउंड। नॉमिनेशन के बाद अब एलिमिनेशन राउंड चल रहा है।

30 से कम वोट पाने पर एलिमिनेशन

नए पीएम की खोज के लिए कंजरवेटिव पार्टी में बुधवार को बैलेट पेपर से वोटिंग हुई। ब्रिटेन के अलिखित संविधान के अनुसार पीएम पद के लिए केवल वे ही उम्मीदवार दूसरे दौर में जा सकते हैं, जिन्हें एलिमिनेशन राउंड में कम से कम 30 सांसदों का समर्थन हासिल हो। नदीम जहावी और जर्मी हंट 30 से कम वोट मिलने पर एलिमिनेशन राउंड से बाहर हो गए हैं।

बुधवार को पहले राउंड की वोटिंग में ब्रिटिश संसद के 358 टोरी सदस्यों ने अपने पसंदीदा उम्मीदवारों के लिए बैलेट पेपर से वोट का पहला सेट डाला। अब अगले राउंड की वोटिंग गुरुवार को गुप्त मतदान के जरिए होगी।

बता दें कि इस वक्त ऋषि सुनक और पेन्नी मॉर्डान्ट अभी रेस में बाकी सबसे आगे हैं। पेनी मोर्डंट को कंजर्वेटिव पार्टी का जमीनी स्तर पर मजबूत समर्थन प्राप्त है। 21 जुलाई तक इस रेस में मात्र 2 कैंडिडेट्स रह जाएंगे। इन दो कैंडिडेट्स को 2 लाख कंजरवेटिव पार्टी सदस्यों के सामने अपनी उम्मीदवारी को साबित करना होगा। इन दोनों में से जिसे सबसे ज्यादा वोट मिलेंगे, वही कंजरवेटिव पार्टी का सदस्य और ब्रिटेन का नया प्रधानमंत्री बनेगा। उम्मीद है कि 5 सितंबर को ब्रिटेन को नया प्रधानमंत्री मिल जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!