पूरी तैयारी के साथ आई थी 300 पीएलए जवानों की टुकड़ी, उल्टे पैरों भागना पड़ा

सत्य पथिक वेबपोर्टल/नई दिल्ली/India China Conflict: अरुणाचल प्रदेश के तवांग सेक्टर में जाबांज भारतीय जवानों ने चीन सैनिकों को खदेड़कर उनके घुसपैठ के इरादों को नाकाम कर दिया। इस झड़प में चीन के 20 से ज्यादा सैनिक घायल हो गए। कुल घायलों की तादाद 30 बताई जा रही है।

सूत्रों के मुताबिक, यह ताजा झड़प तवांग के करीब 9 दिसम्बर की रात में हुई। इससे पहले अक्टूबर 2021 में भी अरुणाचल प्रदेश के यांगसे में दोनों देशों के सैनिकों में संघर्ष हो चुका है। ताजा संघर्ष में दोनों तरफ के 30 से अधिक सैनिक घायल हुए हैं। घायलों में चीनी सैनिकों की संख्या ज्यादा बताई जा रही है।

झड़प में 20 चीनी सैनिक घायल

सेना के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि 9 दिसंबर 2022 को पीएलए के सैनिकों के साथ तवांग सेक्टर में एलएसी के पास झड़प हुई है। घुसपैठ कर रहे चीनी फौजियों का हमारे बहादुर सैनिकों ने डटकर मुकाबला करते हुए उन्हें खदेड़ दिया। झड़प में चीन के 20 से ज्यादा सैनिक घायल हुए हैं। न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के सूत्रों के अनुसार, 6 भारतीय सैनिकों को इलाज के लिए गुवाहाटी लाया गया है। बताया गया है कि
भारत का कोई भी सैनिक इस झड़प में गंभीर रूप से घायल नहीं हुआ है। झड़प के बाद भारत के कमांडरों ने शांति बहाली के लिए चीन के कमांडरों के साथ फ्लैग मीटिंग की जिसके बाद दोनों देशों के सैनिक पीछे गट गए।
घुसपैठ की फिराक में थी 300 चीनी सैनिकों की टुकड़ी

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार, पीएलए की लगभग 300 जवानों की टुकड़ी तवांग सेक्टर में घुसपैठ के इरादे से पूरी तैयारी के साथ आई थी लेकिन भारतीय चौकी पर चौकन्ने जाबांज सैनिकों ने मुंहतोड़ जवाब देते हुए उनके नापाक इरादों पर पानी फेर दिया। चीनी फौज को भारतीय सैनिकों के इतने अलर्ट होने तैयार की उम्मीद बिल्कुल भी नहीं थी।
गलवान के बाद पहली बड़ी झड़प
15 जून, 2020 की घटना के बाद यह अपनी तरह की पहली झड़प है। तब लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे और कई अन्य घायल हुए थे। इस झड़प में चीन के भी कई सैनिक मारे गए थे।
अरुणाचल में अक्सर होता है आमना-सामना
अरुणाचल प्रदेश के तवांग सेक्टर में एलएसी (LAC) के साथ कुछ क्षेत्रों में दोनों पक्ष अपने-अपने देश की सीमा होने का दावा करते हुए गश्त करते हैं। 2006 से यही चलन है। क्षेत्र में गश्त के दौरान भारतीय और चीनी सैनिकों का अक्सर आमना-सामना हो जाता है।
यांगसे में बंधक बना लिए थे कई चीनी सैनिक

यह पहली बार नहीं है जब अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के इस क्षेत्र में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच आमना-सामना हुआ है। अक्टूबर 2021 में भी यांगसे में ऐसी ही झड़प में कुछ चीनी सैनिकों को भारतीय सैनिकों ने कुछ घंटों के लिए बंधक बना लिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!