सत्य पथिक वेबपोर्टल/बर्मिंघम-इंग्लैंड/22nd CWG-2022: जेरेमी लालरिनुंगा (Jeremy Lalrinnunga) ने 22वें कॉमनवेल्थ गेम्स के तीसरे दिन रविवार को भारत को वेटलिफ्टिंग में ही दूसरा गोल्ड मेडल दिलवाया है। रविवार को जेरेमी आखिरी राउंड में चोट लगने के बावजूद लड़खड़ाते और दर्द से कराहते हुए भी रिकॉर्ड वजन उठाकर देश के लिए गोल्ड मेडल जीतने में कामयाब रहे।

जेरेमी ने रिकॉर्ड कुल 300 किलो वजन उठाकर नया इतिहास रच डाला। दरअसल, वेटलिफ्टिंग के हर राउंड के साथ जेरेमी द्वारा उठाया गया वजन बढ़ता ही गया। पहले राउंड में जेरेमी ने 136 किलो वजन उठाया जो आखिरी राउंड तक बढ़कर 165 किलो तक पहुंच गया।

जब जेरेमी ने क्लीन एंड जर्क राउंड में 154 किग्रा. का वजन उठाया तो कमर में तेज दर्द महसूस हुआ। वजन रखकर जमीन पर ही लेट गए। सहारा देकर बाहर तक ले जाना पड़ा। इसके बाद 160 किलो वाले राउंड में भी उन्हें तेज दर्द झेलना पड़ा लेकिन ऐसा ही हुआ. लेकिन दोनों ही बार उन्होंने दर्द को हराकर कामयाबी का स्वाद चखा और गोल्ड मेडल अपने नाम करके ही दम लिया। हालांकि, क्लीन एंड जर्क के तीसरे राउंड में जेरेमी को 165 किग्रा. वजन उठाना था लेकिन वह नाकाम रहे। जैसे ही वजन उठाकर सीधे खड़े हुए तो उसे संभाल नहीं पाए और हाथ में जोर का झटका भी लग गया।

युवा ओलंपिक 2018 चैंपियन जेरेमी ने पुरुषों के 67 किलो भारवर्ग में दबदबा बनाते हुए कुल 300 किलो (140 किलो और 160 किलो) वजन उठाया। उन्होंने समोआ के वेइपावा नीवो इयोन 293 किलो (127 किग्रा और 166 किग्रा) और नाइजीरिया के इडिडियोंग जोसेफ उमोआफिया 290 किलो (130 किग्रा और 160 किग्रा) को पछाड़ा जिन्हें क्रमश: रजत और कांस्य पदक मिला। 

कॉमनवेल्थ गेम्स में टीम इंडिया वेटलिफ्टिंग में अभी तक गोल्ड, दो सिल्वर और एक ब्रॉन्ज़ मेडल समेत कुल पांच मेडल जीत चुकी है। जेरेमी लालरिनुंगा से पहले स्टार वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने भारत की झोली में गोल्ड मेडल डाला था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!