कल हो सकती है औपचारिक घोषणा, भावना गवली बन सकती हैं चीफ व्हिप

सत्य पथिक वेबपोर्टल/नई दिल्ली/Crisis in Shiv Sena: महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री-शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को बहुत बड़ा झटका देते हुए मौजूदा मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने दावा किया है कि लोकसभा स्पीकर ने राहुल शेवले को लोकसभा में शिवसेना का नेता मान लिया है। कल बुधवार को वह इसकी औपचारिक घोषणा भी कर सकते हैं।

बता दें कि श्रीकांत शिंदे समेत शिंदे गुट के 12 सांसदों ने आज ही लोकसभा स्पीकर ओम बिरला से भेंट कर राहुल शेवले को शिवसेना का सदन का नया नेता नियुक्त करने का आग्रह किया था। लोकसभा स्पीकर से भेंट के दौरान 12 सांसदों ने उन्हें ज्ञापन देकर बताया था कि उनके गुट के पास पूरा बहुमत है। वे लोग ही बाला साहेब ठाकरे के असल अनुयायी हैं। लिहाजा उनके गुट के राहुल शेवले को लोकसभा में पार्टी का फ्लोर लीडर और भावना गवाली को चीफ व्हिप नियुक्त किया जाए। हालांकि लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने अभी तक इस मांग पर अपना फैसला दिया नहीं है। वे कल बुधवार को इस पर कोई निर्णय ले सकते हैं।

शाह से मिले सीएम शिंदे, खटखटा सकते हैं ECI का भी दरवाजा

वैसे राजधानी दिल्ली में आज महाराष्ट्र की सियासत की वजह से राजनीतिक तापमान बढ़ा रहा। मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी शिंदे गुट के सांसद किसी समय मुलाकात कर सकते हैं। खबर तो ये भी है कि एकनाथ शिंदे शिवसेना पर अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए चुनाव आयोग का दरवाजा भी खटखटा सकते हैं।

और भी तल्ख हुई उद्धव, राउत की बयानबाजी

इस सियासी हलचल का असर यह रहा कि अब उद्धव ठाकरे और संजय राउत और भी ज्यादा तल्ख अंदाज में बयानबाजी करने लगे हैं। मंगलवार को ही उद्धव ने वर्तमान स्थिति के लिए बीजेपी को जिम्मेदार ठहरा दिया। कहा- वो (बीजेपी वाले) मुर्गे लड़ा रहे हैं। इस लड़ाई में जब एक मुर्गा मर जाएगा तो वो दूसरे मुर्गे को मारकर शिवसेना को खत्म कर देंगे। इस तरह उनकी मंशा पूरी हो जाएगी। उद्धव तो यहां तक मानते हैं कि उनकी पार्टी का कोई भी सदस्य गद्दार नहीं है, बल्कि बीजेपी ने ही इन सबको गुमराह कर शिवसेना से अलग करने का काम किया है।

तीर कितने भी निकाल लो धनुष तो हमारे पास ही रहेगा: उद्धव

उद्धव ने इस बात पर भी जोर दिया है कि बीजेपी उनके तरकश के कितने भी तीर क्यों ना निकाल ले, लेकिन उन तीरों को चलाने वाला धनुष उनके पास ही रहने वाला है। इस एक बयान से उद्धव ने बीजेपी और शिंदे गुट को बड़ा संकेत देने का प्रयास किया है। अब यह संकेत जमीन पर स्थितियों को कितना बदल पाएगा, यह तो समय ही बताएगा, लेकिन अभी तो लिए उद्धव की चुनौतियां कम होने के बजाय बढ़ती ही जा रही हैं।

सुप्रीम कोर्ट में कल ही होनी है अहम सुनवाई

इसके अलावा कल बुधवार को शिंदे गुट के 16 विधायकों की सदस्यता को लेकर सुप्रीम कोर्ट में अहम सुनवाई होने वाली है। सुप्रीम कोर्ट का कल का फैसला महाराष्ट्र की राजनीति की दशा और दिशा को तय करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!