नई दिल्ली/Automobiles/सत्य पथिक न्यूज नेटवर्क: मारुति सुजुकी ने सुरक्षा से जुड़ी संभावित खामियों की जांच कर उन्हें दूर कराने के वास्ते शुक्रवार को स्वेच्छा से अपनी 1.81 लाख कारों को रिकॉल करने (वापस लेने) का फैसला लिया है। ये फैसला इसलिए लिया गया है जिससे सके। कंपनी द्वारा स्वेच्छा से वापस बुलाने का आदेश जारी किया गया है। सभी दोषयुक्त वाहनों के मालिकों से मारुति सुजुकी अधिकृत वर्कशॉप्स के जरिए निकट भविष्य में संपर्क किया जाएगा।


मारुति सुजुकी के उच्च प्रबंधन ने एक प्रेस बयान में कहा है कि जिन कारों को वापस मंगवाया गया है, उनमें Ciaz, S-Cross, Vitara Brezza, Ertiga और XL6 के पेट्रोल मॉडल और 4 मई 2018 से 27 अक्टूबर 2020 के बीच निर्मित कारें शामिल हैं। इन कारों के मोटर जेनरेटर यूनिट की गहन जांच कराई जाएगी और खराबी मिलने पर फ्री ओवरहॉलिंग कराई जाएगी।

इन कारों के दोषपूर्ण पार्ट्स को बदलने की प्रक्रिया नवंबर के पहले सप्ताह से शुरू हो जाएगी। इस दौरान मारुति सुजुकी इन कारों की पानी भरे क्षेत्रों में ड्राइविंग नहीं करने और इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक भागों पर पानी नहीं पड़ने देने का विशेष आग्रह कर रही है।

मारुति सुजुकी या नेक्सा वेबसाइटों पर लॉग इन करके – मॉडल के आधार पर और वाहनों के चेसिस नंबर (एमए 3, उसके बाद 14-अंकीय अल्फा-न्यूमेरिक कोड) दर्ज करके ग्राहक पता लगा सकते हैं कि उनकी कार जांच के दायरे में आ रही है, या नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!