सत्य पथिक वेब पोर्टल, शिलॉंग: शुक्रवार को मेघालय में कोयले की खदान में काम कर रहे छह प्रवासी मजदूरों की 150 फीट गहरी खाई में गिरने से मौत हो गई। हादसा पूर्वी जयंतिया हिल्स इलाके में हुआ।

स्थानीय लोगों का आरोप है कि ये लोग अवैध खदान में सुरंग बनाने का काम कर रहे थे। हालांकि सरकारी सूत्रों ने इससे इन्कार करते हुए साफ किया है कि क्षेत्र में कोई कोयला खदान नहीं है और ये मजदूर पथरीली जमीन को काटकर समतल बना रहे थे।

मौत की पुष्टि करते हुए, पूर्वी जयंतिया हिल्स जिले के पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार ने बताया कि मामले की जांच चल रही है। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक सभी छह मजदूर दक्षिणी असम के करीमगंज जिले के रहने वाले थे और ये लोग रिंबाई गांव के पास एक अवैध कोयला खदान में सुरंग खोद रहे थे।

शवों को परीक्षण के लिए खलियारी स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया है। इसी तरह की एक घटना 13 दिसंबर, 2018 को हुई थी, जब पूर्वी जयंतिया हिल्स जिले में ही एक खदान में काम करने वाले असम के 15 प्रवासी खनिकों की फंसकर मौत हो गई थी। इस खदान की गहराई 370 फीट थी। इसमें एक सुरंग पानी से भर गई थी। बचाव कार्य कई दिनों तक चलने के बाद भी खनिकों के शवों का पता नहीं चल सका था। बता दें कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल पहले ही मेघालय में कोयला खनन को सख्ती से प्रतिबंधित कर चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!