सत्य पथिक वेबपोर्टल/नई दिल्ली/Clarification of MHA on Rohingyas: केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप पुरी के रोहिंग्याओं को दिल्ली के बक्करवाला में EWS फ्लैट्स में बसाए जाने के बयान पर आए सियासी भूचाल को थामने के लिए अब खुद केंद्रीय गृह मंत्रालय को आगे आना पड़ा है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने साफ किया है कि अवैध घुसपैठिए रोहिंग्याओं को देश से बाहर भेजे जाने तक शरणार्थी शिविरों (डिटेंशन सेंटर्स) में ही रखा जाएगा।

रोहिंग्या शरणार्थियों (Rohingya Refugees) के मसले पर दिल्ली में राजनीति तेज हो गई है। दिल्ली में सत्तारूढ़ आप से लेकर दिल्ली भाजपा के बड़े नेता कपिल मिश्रा और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) और आरएसएस की भी तीखी प्रतिक्रियाएं आईं तो केंद्रीय गृह मंत्रालय को आखिरकार डैमेज क॔ट्रोल के लिए आगे आना ही पड़ गया। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मंत्री हरदीप पुरी के बयान का खंडन करते हुए सफाई दी कि अवैध घुसपैठिए रोहिंग्याओं को दिल्ली के बक्करवाला इलाके में EWS फ्लैट्स में रखे जाने का कोई सवाल ही नहीं है। उन्हें देश से बाहर भेजे जाने तक शरणार्थी शिविरों (डिटेशन सेंटर्स) में ही रहना होगा।

गृह मंत्रालय (MHA) ने अपने बयान में कहा है कि मंत्रालय ने रोहिंग्या अवैध प्रवासियों को नई दिल्ली के बक्करवाला (Bakkarwala) में EWS फ्लैट्स में रखने का कोई निर्देश नहीं दिया है।

जम्मू कश्मीर में पहुंचे रोहिंग्या शरणार्थी (फाइल फोटो)

केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से अब बताया गया है कि दिल्ली सरकार ने प्रस्ताव दिया था कि रोहिंग्याओं को बक्करवाला में नई लोकेशन पर शिफ्ट किया जाए। इस पर MHA ने दिल्ली सरकार को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि रोहिंग्याओं को मौजूदा लोकेशन कंचन कुंज (मदनपुर खादर) में ही रखा जाए। बता दें कि दिल्ली में करीब 1,100 रोहिंग्या रह रहे हैं। उनके रहने के लिए टेंट आदि की व्यवस्था है।

MHA ने बताया कि रोहिंग्याओं को मौजूदा जगह पर रखने की बात इसलिए कही गई है क्योंकि सरकार विदेश मंत्रालय के माध्यम से अवैध विदेशियों के निर्वासन के लिए संबंधित देशों से बातचीत कर रही है। बातचीत फाइनल होते ही इन सबको वापस इनके मुल्क म्यांमार को भेज दिया जाएगा।

गृह मंत्रालय ने कहा है कि निर्वासित किए जाने तक अवैध विदेशियों को डिटेंशन सेंटर्स में ही रखा जाएगा। लेकिन दिल्ली सरकार ने अब तक मौजूदा लोकेशन को डिटेंशन सेंटर घोषित नहीं किया है। दिल्ली सरकार को कंचन कुंज मदनपुर खादर में रोहिंग्याओ की रिहाइश को तुरंत डिटेंशन सेंटर शरणार्थी शिविर घोषित करने का निर्देश दिया गया है।

योजना को फौरन वापस ले सरकार: स्वामी चक्रपाणि
हरदीप पुरी के ऐलान पर अखिल भारत हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि की भी प्रतिक्रिया आई है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान से आए हिंदुओं को नागरिकता भी नहीं, और हजारों रोहिंग्या मुस्लिम घुसपैठियों को पक्के आवास दिया जाना देश के लिए बेहद खतरनाक है। सरकार को इस योजना को फौरन वापस ले लेना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!