दलित हूं इसलिए अधिकारी तवज्जो ही नहीं दे रहे, प्रमुख सचिव सिंचाई ने पूरी बात सुने बिना ही काट दिया फोन

सत्य पथिक वेबपोर्टल/लखनऊ/Minister of State for water power Dinesh Khateek resigns: योगी सरकार में जलशक्ति विभाग के राज्यमंत्री दिनेश खटीक ने अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री, राज्यपाल के साथ ही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को भी भेजा है। इस्तीफे में दिनेश खटीक ने दलित होने की वजह से अधिकारियों द्वारा तवज्जो नहीं देने और भ्रष्टाचार बेतरह बढ़ने के गंभीर आरोप लगाए हैं। हालांकि इस्तीफा अभी मंजूर नहीं हुआ है।

जलशक्ति विभाग के राज्यमंत्री दिनेश खटीक ने आरोप लगाया है कि दलित होने की वजह से विभागीय अधिकारी तक उनकी बात नहीं सुनते हैं। यहां तक कि किसी बैठक की सूचना भी उन्हें नहीं दी जाती है। प्रमुख सचिव सिंचाई पर आरोप लगाया कि पूरी बात सुने ही उन्होंने फोन काट दिया। नमामि गंगे योजना में भी भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है।

हालांकि, सरकार और पार्टी संगठन के स्तर पर दिनेश खटीक के आरोपों पर अभी तक कोई सफाई सामने नहीं आई है।
मंत्री दिनेश खटीक ने अमित शाह को चिट्ठी में लिखा है कि दलित होने के कारण अधिकारी उनकी एक भी बात नहीं सुनते है। अभी तक मुझे विभाग में कोई काम नहीं मिला है। जल शक्ति विभाग में दलित समुदाय के राज्य मंत्री होने के नाते उनके किसी भी आदेश पर कोई कार्रवाई नहीं होती है। न ही विभाग की योजनाओं के बारे में जानकारी दी जाती है। मेरे विभाग में ट्रांसफर के नाम पर गलत तरीके से पैसा वसूला गया। भनक लगने पर जब मैंने विभागाध्यक्ष से जानकारी मांगी तो अभी तक उनके द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गई है।

चिट्ठी में राज्यमंत्री खटीक ने लिखा, “जब दलित समाज के राज्य मंत्री का विभाग में कोई वजूद ही नहीं है तो ऐसे में राज्य मंत्री के रूप में मेरा काम करना बेकार है। इन्हीं सब बातों से आहत होकर मैं अपने पद से इस्तीफा दे रहा हूं। सरकारी गाड़ी भी लौटा रहा हूं।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!