जुलाई में नोएडा, दिल्ली में भी हो चुका है ऐसे ही दो फर्जी काॅल सेंटरों का भंडाफोड़

सत्य पथिक वेबपोर्टल/गुरुग्राम-हरियाणा/Fake Call Center disclosed, 6 arrested: दिल्ली से सटे हरियाणा के हाईटेक सिटी गुरुग्राम में पुलिस ने एक ऐसे फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़ किया है जो अमेरिकी और कनाडाई नागरिकों को तकनीकी मदद देने के नाम पर उनसे करोड़ों डाॅलर ठग चुके थे। फर्जी कॉल सेंटर के मैनेजर समेत कुल 6 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

कॉल सेंटर सेक्टर-42 इलाके में चल रहा था। आरोपियों की पहचान तचंग तुंगसानो, विकास भड़ाना, पारस सूद, अविनाश, राम बिशुआ और अभिलाष सिंह के रूप में हुई है। इनमें से अभिलाष सिंह कॉल सेंटर का मैनेजर है। एसीपी क्राइम प्रीतपाल सांगवान ने बताया कि बुधवार को साइबर क्राइम थाना प्रबंधक विजेंद्र को सेक्टर-42 के मकान संख्या 120 पी में फर्जी कॉल सेंटर चलाए जाने की सूचना मिली थी। सूचना पर एसीपी साइबर क्राइम प्रियांशु दीवान के नेतृत्व में तत्काल टीम गठित कर छापा मारा गया। टीम को इस मकान के बेसमेंट में कॉल सेंटर चलता मिला। पुलिस ने जब मौके पर मौजूद मैनेजर से कॉल सेंटर के संबंध में वैध दस्तावेज मांगे तो वह कोई भी दस्तावेज नहीं दिखा सका।

इस तरह से विदेशियों से करते थे ऑनलाइन ठगी
आरोपी ने पुलिस पूछताछ में बताया कि कॉल सेंटर का मालिक सचिन तनेजा अमेरिकी और कनाडाई नागरिकों को तकनीकी सहायता दिलाने के लिए उनसे विभिन्न माध्यमों से संपर्क करता था। कई तरह के एंटी वायरस इंस्टॉल कराने का झांसा देकर तकनीकी सहायता के लिए पॉपअप भेजता था। इन्हीं के जरिए कंप्यूटर में तकनीकी समस्या पैदा कर देता था। उसके बाद मदद के नाम पर उनसे 200-500 डॉलर तक ठग लिए जाते थे। ठगी किए गए डॉलर्स के ये गिफ्टकार्ड खरीदवाकर रुपये प्राप्त कर लेेते थे।

हर वर्कर को दे रहे थे 45 हजार सैलरी, इंसेंटिव

जिस मकान के बेसमेन्ट में यह फर्जी कॉल सेन्टर चला रहे थे, वह सचिन तनेजा नाम के व्यक्ति का है। पुलिस की गिरफ्त में आए सभी कर्मचारी पहले एक अन्य कॉल सेन्टर में काम करते थे। अब पिछले एक साल से इस कॉल सेंटर में नौकरी कर रहे थे। सचिन तनेजा इन कर्मचारियों को 40-45 हजार रुपये प्रतिमाह सैलरी देता था और वेतन के अलावा इन्हें अतिरिक्त इंसेंटिव भी दिया जाता था। पता लगा है कि अब तक ये सैकड़ों लोगों से करोड़ों डाॅलर की ठगी कर चुके हैं। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से 7 कंप्यूटर सिस्टम व एक मॉडम बरामद किया है।

बताते चलें कि इससे पहले जुलाई माह में भी पुलिस ने नोएडा और दिल्ली में छापे मारकर दो फर्जी काॅल सेंटर पकड़े थे और डेस्कटॉप, लेपटाॅप समेत कई डिवाइस भी बरामद कर दोनों जगहों से दर्जन भर साइबर ठगों को गिरफ्तार किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!