सत्य पथिक वेबपोर्टल/इस्लामाबाद/ Most Destructive Flood in Pakistan: सदी की सबसे विनाशकारी बाढ़ में तकरीबन एक तिहाई पाकिस्तान डूबा हुआ है। सिंध से लेकर बलूचिस्तान तक कई राज्यों में हालात बेहद खराब हैं। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक अब तक 1,136 लोग इस विनाशकारी बाढ़ में अपनी जानें गंवा चुके हैं। हालांकि गैरसरकारी रिपोर्ट्स में बाढ़ से 2500 से ज्यादा मौतों का दावा किया गया है। 3.30 करोड़ से ज्यादा लोग बेघर होकर इमदाद की आस में भूखे-प्यासे खुले आसमान तले पड़े हैं। 

पाकिस्तान में बाढ़ की त्रासदी का आलम यह है कि लाखों लोग भूखे पेट सोने को मजबूर हैं। पिछले 24 घंटे में 75 और लोगों ने दम तोड़ दिया। तीन हजार से ज्यादा लोग घायल हैं। 59 की हालत गंभीर है। पाकिस्तानी जलवायु परिवर्तन मंत्री शेरी रहमान ने इसे “दशक का सबसे भयावह मानसून’ कहा है। मंगलवार को भी यात्रियों से भरी एक बस पानी में बह गई। घटना के वक्त बस में 40 लोग सवार थे। 

10 अरब डॉलर का नुकसान, लाखों घर क्षतिग्रस्त

कई जिलों का संपर्क भी टूट गया है। कई शहरों और हजारों गांवों में बिजली, पानी की सप्लाई ठप हो चुकी है। खैबर पख्तूनख्वा के 10 हजार से ज्यादा गांवों का संपर्क पाकिस्तान के अन्य इलाकों से पूरी तरह से टूट गया है। यहां पहाड़ी इलाकों में फंसे लोगों को रेस्क्यू करने के लिए पाकिस्तानी एयरफोर्स के हेलीकॉप्टर्स की मदद ली जा रही है।

पाक पीएम शहबाज शरीफ ने दुनिया भर से मांगी मदद
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने दुनिया भर से मदद मांगी है। संयुक्त राष्ट्र में सेक्रेटरी जनरल के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने कहा  कि पाकिस्तान में लगातार बारिश हो रही है। ऐसे में स्थिति और भी ज्यादा खराब हो सकती है। पाकिस्तान की तरफ से 160 मिलियन डॉलर फंड की मांग भी यूएन से की गई है। 
 

सिंध में बच्चों में बढ़ी बीमारियां
पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, बाढ़ के चलते सिंध में पानी से होने वाली बीमारियां काफी बढ़ गईं हैं। इसकी चपेट में सिंध के सैकड़ों बच्चे आ चुके हैं। डायरिया, बुखार, खांसी-जुखाम जैसे मामले अब आम हो चुके हैं। सांप काटने के भी कई मामले सामने आ चुके हैं। 
 

आईएमएफ ने बेलआउट पैकेज बहाल किया
पाकिस्तान में बाढ़ के हालात के बीच, अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) के कार्यकारी निदेशक मंडल ने पाकिस्तान के विस्तारित कोष सुविधा (ईएफएफ) कार्यक्रम को फिर से बहाल करने को मंजूरी दे दी है। इससे नकदी संकट से जूझ रहे देश को 7वीं और 8वीं किस्त के रूप में 1.17 अरब अमेरिकी डॉलर (9300 करोड़ रुपये से अधिक) मिलेंगे। 
 

50 हजार से ज्यादा शरणार्थी कराची पहुंचे
पाकिस्तान के अलग-अलग हिस्सों में बाढ़ से प्रभावित लोग घर छोड़ने को मजबूर हैं। बड़ी संख्या में लोग कैंप में रह रहे हैं। इसके अलावा सड़कों पर भी रहने को मजबूर हैं। पाकिस्तान सरकार ने बताया कि करीब 50 हजार लोगों ने कराची में भी शरण ली है। 

पीएम मोदी ने भी जताया दुख
पाकिस्तान में बाढ़ से मची भीषण तबाही पर भारत ने पड़ोसी देश के लोगों के प्रति संवेदना जताई है। पीएम नरेंद्र मोदी ने संकट की इस घड़ी में आपसी मतभेदों से इतर सोमवार को ट्वीट में लिखा, पाकिस्तान में बाढ़ से हुई तबाही को देखकर दुखी हूं। हम पीड़ितों, घायलों और इस प्राकृतिक आपदा से प्रभावित सभी लोगों के परिवारों के प्रति अपनी हार्दिक संवेदना व्यक्त करते हैं। साथ ही सामान्य स्थिति की शीघ्र बहाली की आशा भी करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!