यूपी-उत्तराखंड में तेजी से बढ़ते निष्पक्ष-निडर हिंदी न्यूज पोर्टल satyapathik.com को उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं और बधाइयां

भारत की स्वतंत्रता के 75वें हीरक जयंती वर्ष 2022 के उपलक्ष्य में अमृत महोत्सव की सभी सम्मानित देशवासियों को अनंत-अशेष बधाइयां और शुभकामनाएं

अपील-जिम्मेदार नागरिक बनें और वैश्विक महामारी कोविड-19 के बढ़ते खतरे से बचाव के लिए दोनों टीके और बूस्टर डोज समय से मुफ्त लगवाएं। कोविड-19 गाइडलाइंस का सख्ती से पालन करें और अपने परिवार के सदस्यों को कोविड 19 जैसी जानलेवा बीमारी से बचाएं। इसके साथ ही अपने 0 से 05 वर्ष के बच्चों का नियमित टीकाकरण नि:शुल्क करवाएं एवम 12 जानलेवा बीमारियों से बच्चों को बचाएं । घर और घर के आसपास की साफ-सफाई का विशेष थ्यान रखें। गर्भवती-धात्री महिलाओं को देशी घी, दूध, ताजे मौसमी फल, हरी सब्जियां नियमित खिलाएं।

डाॅ. अमित कुमार
चिकित्सा अधीक्षक
श्री कमलादेवी रामाधार गुप्ता मेमोरियल सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, मीरगंज-बरेली।

सत्य पथिक वेबपोर्टल/न्यूयॉर्क/Salman Rushdie Health Update: मशहूर लेखक सलमान रुश्दी की हालत में अब सुधार हो रहा है। शुक्रवार को एक कार्यक्रम के दौरान सिरफिरे हमलावर ने उन पर चाकू से ताबड़तोड़ हमले किए थे। अस्पताल में गंभीर हालत में उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। हालांकि अब रुश्दी की हालत में लगातार सुधार हो रहा है। वह बातचीत भी कर पा रहे हैं।

द सैटेनिक वर्सेज के लेखक सलमान रुश्दी को अब वेंटिलेटर से हटा दिया गया है। साथी लेखक आतिश तासीर ने ट्वीट कर लिखा है कि रुश्दी अब वेंटिलेटर सपोर्ट पर नहीं हैं। वह बात कर रहे हैं। हंसी-मजाक भी कर लेते हैं।
24 साल के युवक के जानलेवा हमले में रुश्दी के हाथ की नसें फट गई थीं, लीवर को नुकसान पहुंचा था और सर्जरी के दौरान एक आंख जाने का खतरा भी बताया गया था। हालांकि डाक्टरों की कोशिशों और प्रश॔सकों की दुआओं के असर से उनकी हालत में तेजी से सुधार हो रहा है।

बुकर पुरस्कार विजेता सलमान रुश्दी ‘सैटनिक वर्सेस’ प्रकाशित होते ही विवादों में घिर गए थे। भारत समेत कई देशों में रुश्दी की ये किताब बैन है। पैगबंर मोहम्मद के अपमान का आरोप सलमान रुश्दी पर इसी किताब की वजह से लगा था।

24 साल के युवक ने किया था हमला 

सलमान रुश्दी पर 24 साल के लेबनान मूल के हादी मटर ने हमला किया था। वहीं यारून के मेयर अली तेहफे से पूछा गया कि क्या मटर या उसके माता-पिता हिज्बुल्लाह से जुड़े थे तो उसने ऐसी कोई जानकारी होने से इन्कार किया है।

ईरान के अखबारों में हमले की तारीफ 

ईरान में कई कट्टरपंथी समाचार पत्रों ने शनिवार को लेखक सलमान रुश्दी के हमलावर की जमकर तारीफ की। कट्टरपंथी काहान अखबार के एडिटर इन चीफ ने लिखा- न्यू यॉर्क में सलमान रुश्दी पर हमला करने वाले बहादुर और कर्तव्यनिष्ठ व्यक्ति को एक हजार बार सलाम। उन्होंने आगे लिखा- भगवान के दुश्मन की गर्दन चीरने वाले व्यक्ति का हाथ चूमा जाना चाहिए। काहान अखबार के एडिटर इन चीफ को ईरान के सर्वोच्च नेता आयातुल्लाह अली खुमैनी ने खुद नियुक्त किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!