परिवार वाले हर साल 30 नवंबर को अलखनाथ मंदिर में भंडारा कराते और अन्नकूट का प्रसाद बंटवाते हैं

सत्य पथिक वेबपोर्टल/बरेली/Devotion: नाथनगरी बरेली अपने नाथ मंदिरों, अलखनाथ, मढ़ीनाथ, तपेश्वर नाथ, धोपेश्वर नाथ, बनखंडी नाथ, त्रिवटी नाथ के बाद अब पशुपति नाथ मंदिर के कारण ही देश-विदेश में प्रसिद्ध है। इन प्राचीन नाथ मंदिरों में दूरदराज से शिवभक्त वर्ष भर आते हैं। अलखनाथ मंदिर परिसर में तो सत्य प्रकाश अग्रवाल ने गोवर्धन पर्वत की तर्ज पर एक मंदिर भी बनवाया था।

नाथ नगरी समिति के तत्वावधान में भोलेशंकर के भक्तजन सावन माह में इन सभी नाथ मंदिरों की परिक्रमा भी करते हैं। पूरे सावन भर प्रदोष पूजन भी निरंतर चलता ही रहता है। मंदिर समिति के साथ ही शिवभक्त भी इन नाथ मंदिरों का समय-समय पर जीर्णोधार कराने में भी आर्थिक सहयोग करते हैं। बरेली में टीबरीनाथ मंदिर कमेटी, धोपेश्वर नाथ समिति ने जन सहयोग से इन मंदिरों को काफी आकर्षक एवम हरा-भरा बना दिया है। यहां साधु संतों के प्रवचन एवम कथावाचन कार्यक्रम निरंतर होते रहते हैं।

स्व. सत्य प्रकाश अग्रवाल सराफ के सुपुत्र अजय अग्रवाल

एक शिवभक्त जगमोहन ने काठमांडू के पशुपतिनाथ मंदिर की तर्ज पर बरेली में रुहेलखंड विश्वविद्यालय के सामने वर्ष 1975 के आसपास पशुपति नाथ मंदिर बनवाया था। इसी तरह साहूकारा निवासी शिवभक्त स्वर्गीय सत्य प्रकाश अग्रवाल सर्राफ ने अपने पिता हरप्रसाद अग्रवाल एवम श्रीमती प्रेम कुमारी की स्मृति में वर्ष 2011 में बाबा अलखनाथ मंदिर का जीर्णोधार कराने के साथ ही परिसर में गोवर्धन पर्वत जैसे मंदिर की स्थापना भी कराई थी।

सत्य प्रकाश अग्रवाल सराफ का 16 अप्रैल 2014 को और उनकी धर्मपत्नी कमला देवी का 16 अप्रैल 2021 को निधन हो गया था। अब उनके पुत्र वीरेंद्र प्रकाश अग्रवाल, अजय कुमार अग्रवाल ( पूर्व महानगर अध्यक्ष बीजेपी) एवम प्रेमप्रकाश अग्रवाल ( कांग्रेस नेता) अपने पुत्रों शंकर शरण, शेखर, शैलेश, शैलेंद्र, आशुतोष अग्रवाल के साथ बाबा अलखनाथ की निरंतर सेवा करते हैं।

ये लोग लगभग प्रति दिन मंदिर भी जाते है॔। वर्ष 2017 में उन्होंने अलखनाथ मंदिर के मुख्य द्वार का भी जीर्णोधार भी कराया था।

वर्ष 1950 से साहूकारा में सराफा कारोबार करते रहे स्वर्गीय सत्य प्रकाश अग्रवाल के बेटे अजय अग्रवाल एवम प्रेम प्रकाश अग्रवाल सराफा व्यवसाय को आधुनिक रूप-रंग में साहूकारा, आलमगिरीगंज में और वीरेंद्र प्रकाश अग्रवाल प्लाई बोर्ड का कारोबार रजऊ में चला रहे हैं। 30 नवंबर 2015 से पिता सत्य प्रकाश की स्मृति में परिजन साहूकारा मंदिर पर हर वर्ष अन्नकूट का प्रसाद वितरण और बाबा अलखनाथ मंदिर में भंडारा भी कराते हैं।

वरिष्ठ पत्रकार निर्भय सक्सेना की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!