14 फरवरी मातृ-पितृ पूजन दिवस पर खास खबर

औरंगाबाद, सत्य पथिक न्यूज नेटवर्क: महाराष्ट्र के लातूर में जिला परिषद के सात कर्मियों को अपने माता-पिता का खयाल नहीं रखना काफी महंगा पड़ गया है। माता-पिता की देखभाल नहीं करने के संबंध में जिला परिषद प्रशासन के समक्ष 12 कर्मियों के खिलाफ गंभीर शिकायतें आई थीं। इनमें से छह शिक्षक हैं।

पिछले साल पारित हुआ था प्रस्ताव

पिछले साल नवंबर में जिला परिषद की आम सभा में प्रस्ताव पारित किया गया था कि माता-पिता का खयाल नहीं रखने वाले कर्मियों के वेतन से 30 फीसद की कटौती की जाए। दिसंबर से इस पर अमल भी शुरू हो गया है। काटी गई रकम उनके माता-पिता को दी जा रही है।

12 कर्मियों के विरुद्ध मिली थीं शिकायतें

जिला परिषद अध्यक्ष राहुल बोंद्रे ने शनिवार को कहा-  हमने अपने 12 कर्मियों के खिलाफ मिली शिकायतों की जांच शुरू की थी। इनमें से सात कर्मियों के वेतन से दिसंबर से कटौती शुरू भी कर दी गई है। यह कटौती हर माह जारी रहेगी, जो औसतन 15,000 रुपये है। कुछ मामलों में नोटिस दिए जाने के बाद अन्य कर्मियों का अपने माता-पिता से समझौता हो गया है। आरोपी कर्मियों में छह शिक्षक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!