खिरका सीएचसी में टीके खत्म, वन विभाग की टीम ने राजश्री मेडिकल कॉलेज के गर्ल्स हॉस्टल में लगाया पिंजरा

सत्य पथिक वेबपोर्टल/बरेली/फतेहगंज पश्चिमी/terror of mad monkeys: थाना फतेहगंज पश्चिमी के औंध, सतुइया खास, खिरका जगतपुर और आसपास के आधा दर्जन से ज्यादा गांवों और राजश्री हास्पिटल एवं मेडिकल कॉलेज कैंपस, स्टाफ क्वाटर्स, हाॅस्टल में पागल बन्दरों ने दर्जनों लोगों को काटकर जख्मी कर दिया है। खिरका सीएचसी में एंटी रेबीज इंजेक्शन भी खत्म हो गए हैं। वन विभाग की टीम ने पागल बंदर को पकड़ने के लिए राजश्री मेडिकल कॉलेज के गर्ल्स हॉस्टल में पिंजरा रख दिया है।

फतेहगंज पश्चिमी क्षेत्र में इन दिनों बंदरों का आतंक इस कदर बढ़ गया है कि लोगों का घर से बाहर निकलना तक मुश्किल है। दर्जनों लोगों को बंदरों ने हमला कर घायल कर दिया है। बंदरों के झुंड में कुछ पागल भी हो चुके हैं। पागल बंदर दौड़कर बच्चों- बड़ों और महिलाओं को काटकर घायल कर दे रहे हैं। भुक्तभोगी क्षेत्रवासी एसडीएम मीरगंज से भी शिकायत कर चुके हैं। बन्दरों और कुत्तों के आतंक से क्षेत्र के लोग दहशत में हैं। इनके डर की वजह से लोग अकेले घरों से भी नहीं निकल पा रहे हैं। मंगलवार को क्षेत्र में एक दर्जन लोगों को बन्दरों और कुत्तों ने हमला कर घायल कर दिया। गांव सतुईया खास निवासी प्रेमपाल हाइवे पर स्थित पाल ढाबा के पीछे खेत मे काम करने गए थे, तभी पीछे से एक पागल बन्दर ने हमला कर उनका कान काट लिया और गाल फाड़ दिया। शोर मचाने पर ढाबे पर मौजूद लोगों ने बचाया। लोग उसे सीएचसी ले गए। गम्भीर घायल होने पर उसे बरेली रेफर कर दिया।
बंदरों-कुत्तों के हमलों में घायल बहुत से मरीज एंटी रेबीज इंजेक्शन लगवाने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खिरका पहुंचे। एक युवक को गम्भीर घायल होने पर जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया।

इसी तरह खिरका निवासी बुद्धसेन 55 वर्ष जंगल में टहल रहे थे। अचानक पागल बन्दर ने हमला कर उन्हें घायल कर दिया। औंध के धनपाल को घर पर ही बन्दर ने हमला कर काट लिया। मढ़ौली में शिवम 3 वर्ष को बन्दर ने काट लिया। फतेहगंज पश्चिमी कस्बे में मीना,राधिका, तस्लीम, शेरबहादुर,प्रकाश चन्द्र उपाध्याय 62 बर्ष, राजा 13 वर्ष, नारा फरीदपुर में अनु 2 बर्ष को भी बन्दर काटकर घायल कर चुके हैं।

गांव खानपुर में नितेश को कुत्ते और इदरीश को बिल्ली ने काट लिया। राजश्री मेडिकल कॉलेज में बंदरों हमले में गर्ल्स हॉस्टल की रसोई के कर्मचारियों सर्वेश, हरिओम, विशाल कैंटीन के आकाश, वार्डेन वंदना (कुरतरा), डॉ. कासिम और मेडिकल के स्टूडेंट सुनील कुमार को बंदरों ने काट कर घायल कर दिया। इन सभी का इलाज राजश्री अस्पताल में ही चल रहा है। इधर, थानपुर में कमरे में सो रहे अर्जुन को बन्दर ने अंदर घुसकर नाक और हाथ मे काट लिय अर्जुन और सतुइया खास के प्रेमपाल दोनों राजश्री अस्पताल में भर्ती है।

आपको बताते चलें कि मीरगंज के गांव दुनका में अभी कुछ दिन पहले बंदरों के झुंड ने दुधमुंहे बच्चे को पिता की गोद से छीनकर तीसरी मंजिल से नीचे फेंक दिया था जिससे मासूम बच्चे की मौत हो गई थी।

राजश्री मेडिकल कॉलेज के छात्रों पर बंदरों के हमले की सूचना पर वन विभाग की टीम पिंजरा लेकर राजश्री मेडिकल पहुंची और पागल बंदर की तलाश की लेकिन बन्दर हाथ नहीं आया। गर्ल्स हॉस्टल के छत का गेट छोटा होने की वजह से पिंजरा उपर नही पहुंचा तो विभाग की टीम ने गेट पर ही लगाकर खाने-पीने का सामान भी उसमें रख दिया है ताकि बंदर खाने के लालच में आए और पिंजरे में बंद हो जाए। वहीं राजश्री मेडिकल कॉलेज के छात्र-छात्राएं डंडा लेकर हॉस्टल से बाहर निकल रहे हैं।

खिरका सीएचसी पर घायलों को तो इंजेक्शन लग गए। लेकिन सीएचसी पर वैक्सीन खत्म हो गई। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी डॉक्टर संचित शर्मा ने बताया कि सीएमओ से एंटी रेबीज इंजेक्शन भेजने का आग्रह किया है। आने पर टीके मरीजों को लगाए जाएंगे।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!