नई दिल्ली/Parliament’s Session/सत्य पथिक न्यूज नेटवर्क: संसद का अगला मानसून सत्र जुलाई में प्रस्तावित है। चार नवनिर्वाचित राज्यसभा सदस्यों के शपथ समारोह के बाद संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि मानसून सत्र समय से शुरू कराने के लिए सरकार सभी संभव तैयारियां कर रही है।


कोरोना ने घटाई संसद के सत्रों की अवधि

कोरोना की वजह से संसद के तीन सत्रों की अवधि घटाई गई है। पिछले वर्ष तो पूरा शीतकालीन सत्र ही रद्द करना पड़ा था।

सितंबर में शुरू हो पाया था मानसून सत्र

आमतौर पर जुलाई में प्रारंभ होने वाला मानसून सत्र

पिछले वर्ष कोरोना के कारण सितंबर में शुरू हो सका था। संसदीय कार्य मंत्री जोशी ने उम्मीद जताई कि संसद का मानसून सत्र जुलाई में शुरू होकर सामान्य रूप से चलेगा।

संसदीय समितियों की बैठकें 22 जून से

सूत्रों ने बताया कि इस साल मानसून सत्र के आयोजन के तौरतरीकों पर अभी चर्चा चल रही है। सूत्रों के अनुसार संसदीय समितियों की बैठकें भी जून के तीसरे सप्ताह से शुरू होने की संभावना है।

संसदीय प्रशासन को भी सत्र तय समय से चलने का भरोसा

संसदीय प्रशासन को जुलाई में यह सत्र आयोजित करने का पूरा विश्वास है क्योंकि ज्यादातर सांसदों, लोकसभा और राज्यसभा सचिवालयों के ज्यादातर कर्मियों एवं अन्य संबंधित पक्षों को कोरोना वायरस टीके की कम से कम एक खुराक लग चुकी है।


चार नए राज्यसभा सदस्यों ने ली शपथ

राज्यसभा के चार नए सदस्यों ने मंगलवार को संसद के उच्च सदन की सदस्यता की शपथ ली। इनमें स्वप्न दासगुप्ता और महेश जेठमलानी भी शामिल हैं जिन्हें हाल ही में राज्यसभा के लिए मनोनीत किया गया है। नए सदस्यों के शपथ ग्रहण करने के अवसर पर सभापति एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि कोरोना महामारी के चुनौतीपूर्ण समय में जनप्रतिनिधियों के पास निभाने के लिए बड़ी भूमिका है।

दास गुप्ता दुबारा राज्यसभा सदस्य मनोनीत

दासगुप्ता और जेठमलानी के अलावा माकपा के जान ब्रिटास और वी. शिवदासन ने भी शपथ ली। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने वाले दासगुप्ता को हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद उन्हें फिर से राज्यसभा के लिए मनोनीत किया गया। जाने-माने वकील महेश जेठमलानी को भी मनोनीत किया गया। शिवदासन ने मलयालम भाषा में शपथ ली, लेकिन तीन अन्य सदस्यों ने अंग्रेजी में शपथ ली।

सभापति नायडू ने दिलाई शपथ, दी बधाई

नए सदस्यों को बधाई देते हुए नायडू ने कहा कि शपथ ग्रहण आमतौर पर उनके चैम्बर में होता है, लेकिन कोरोना वायरस के हालात को देखते हुए राज्यसभा के चैम्बर में शपथ ग्रहण कराई गई। सभापति ने कहा, ‘शपथ ग्रहण अभी कराई गई क्योंकि संसद का अगला सत्र होने में कुछ समय है।’

लोगों को टीका लगवाने को प्रेरित करें-नायडू

नए सदस्यों के शपथ ग्रहण करने के अवसर पर उप राष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि कोरोना महामारी के चुनौतीपूर्ण समय में जन प्रतिनिधियों के पास निभाने के लिए बड़ी भूमिका है। नायडू ने सदस्यों का आह्वान किया कि वे लोगों को कोविड रोधी टीका लगवाने के लिए प्रेरित और जागरूक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!