सत्य पथिक वेबपोर्टल/नई दिल्ली/IAF Exercise in North East: अभी से लेकर अगले 48 घंटे तक ‘ड्रैगन’ सुनेगा भारतीय फाइटर जेट्स की गर्जना बीजिंग तक साफ सुनाई पड़ेगी। दरअसल, भारतीय वायुसेना उत्तर-पूर्वी राज्यों में बड़ा सैन्य युद्धाभ्यास करने जा रही है।

इस युद्धाभ्यास में कई लड़ाकू विमान, अटैक हेलिकॉप्टर्स और कार्गो प्लेन शामिल हो रहे हैं। यह एक प्रशिक्षण युद्धाभ्यास है ताकि यह पता किया जा सके कि वायुसेना युद्ध की स्थिति के लिए कितनी तैयार है? यह युद्धाभ्यास ऐसे वक्त हो रहा है जब भारतीय जाबांज जवान अरुणाचल प्रदेश के तवांग में 9 दिसंबर को चीनी सैनिकों की भारतीय पोस्ट पर कब्जे की कोशिश को नाकाम कर चुके हैं।

इस युद्धाभ्यास में उत्तर-पूर्व के चार एयरफोर्स बेस भाग ले रहे हैं. ये हैं- तेजपुर, छाबुआ, जोरहाट और हाशिमारा। इन चारों एयरफोर्स स्टेशनों के सभी वायुवीरों को अलर्ट मोड पर रखा गया है। इस युद्धाभ्यास में सिर्फ फाइटर जेट्स की तैयारी नहीं देखी जाएगी, बल्कि कार्गो ट्रांसपोर्टेशन, आपसी कम्यूनिकेशन, तेजी और समयबद्ध एक्शन की भी परख की जाएगी।

इस युद्धाभ्यास में सुखोई-30एमकेआई (Sukhoi-30MKI), राफेल (Rafale Fighter Jet) और मिराज Mirage जैसे विध्वंसक लडाकू विमान Fighter Jets हिस्सा ले रहे हैं।इसके अलावा अपाचे अटैक हेलिकॉप्टर (Apache AH-64Es अ Attack Helicopter), चिनूक Ch-47F(I) हैवी ट्रांसपोर्ट हेलिकॉप्टर (Chinook Heavy Transport Helicopter), सी-130जे सुपर हरक्यूलस (C-130J Super Hercules ट्रांसपोर्ट विमान भी शामिल होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!