नई दिल्ली/politics/सत्य पथिक न्यूज नेटवर्क: उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ तमाम कयासों के बीच गुरुवार को अचानक ही दिल्ली पहुंचे और होम मिनिस्टर अमित शाह से मुलाकात की। दोनों के बीच यह मुलाकात करीब डेढ़ घंटे तक चली। अब शुक्रवार सुबह वह पीएम नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात करने वाले हैं।


योगी के इस अचानक दिल्ली दौरे से पहले से चल रही बड़े बदलाव की अटकलों को और तेजी मिली है। यही नहीं, एक तरफ योगी आदित्यनाथ ने अमित शाह से मुलाकात की तो दूसरी ओर बीजेपी चीफ जेपी नड्डा भी पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात करने पहुंचे। एक के बाद एक इन मुलाकातों को यूपी से जोड़कर देखा जा रहा है।  इस मुद्दे पर अब तक पार्टी के किसी नेता ने कुछ भी नहीं कहा है। हालांकि प्रदेश के राजनीतिक हलकों में लगातार संगठन में बदलाव और कैबिनेट विस्तार को लेकर चर्चा तेज है।

आधिकारिक तौर पर भले कहा यह जा रहा है कि योगी आदित्यनाथ कोरोना से निपटने की रिपोर्ट अमित शाह को देने पहुंचे हैं। लेकिन सियासी हलके में चर्चाएं कुछ और ही हैं। बीते दिनों उत्तर प्रदेश में बीजेपी के संगठन महामंत्री बीएल संतोष पहुंचे थे और लगातार तीन दिन तक कैम्प कर कई मंत्रियों और विधायकों से अलग-अलग मुलाकात की थी। इसके बाद से ही प्रदेश में नेतृत्व परिवर्तन से लेकर तमाम तरह की अटकलें लगनी शुरू हो गई थीं।

एके शर्मा की एंट्री से तेज हुई अटकलें

हालांकि, खुद बीएल संतोष ने कई ट्वीट कर योगी आदित्यनाथ सरकार की कोरोना से निपटने के उसके प्रयासों को लेकर तारीफ की और अटकलों पर विराम लगाने की कोशिश भी की थी। इसके बाद भी अटकलें लगातार जारी हैं। बता दें कि गुजरात काडर के आईएएस और पीएम मोदी के बेहद करीबी एके शर्मा के यूपी में एमएलसी बनने के बाद से ही मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर चर्चा गर्म है।


प्रदेश अध्यक्ष, महामंत्री संग मंत्रणा भी चर्चा में


इससे पहले बुधवार शाम प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह और महामंत्री संगठन सुनील बंसल के साथ सीएम योगी ने बंद कमरे में मंत्रणा की थी। गुरुवार दोपहर एक बजे सीएम योगी अचानक दिल्ली रवाना हो गए। हिंडन एयरपोर्ट से दिल्ली के यूपी सदन पहुंचा। यूपी सदन से
सीएम योगी का काफिला ठीक चार बजे अमित शाह के आवास के लिए रवाना हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!