सत्य पथिक वेबपोर्टल/नई दिल्ली/politics: गोवा के ‘सिली सोल्स कैफे एंड बार’ को लेकर छिड़े विवाद में उनकी बेटी का नाम घसीटने से क्षुब्ध केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस और उसके नेताओं को कानूनी नोटिस भेजा है। स्मृति ईरानी की ओर से उनके वकील ने कांग्रेस पार्टी, कांग्रेस के नेता जयराम रमेश और पवन खेड़ा को नोटिस भेजा है। कांग्रेस ने प्रेस कांफ्रेंस कर आरोप लगाया था कि गोवा के इस बार का प्रबंधन केन्द्रीय मंत्री का परिवार करता है और बार ने शराब का लाइसेंस लेने के लिए फर्जीवाड़ा किया है।

दरअसल गोवा के आबकारी आयुक्त ने ‘सिली सोल्स कैफे एंड बार’ को नियमों और प्रक्रियाओं को धता बताकर शराब लाइसेंस लेने पर कारण बताओ नोटिस जारी किया था।  इस मामले में दर्ज कराई गई आरोप लगाया गया कि बार द्वारा शराब परोसने का नियमविरुद्ध लाइसेंस बनवा लिया जबकि बार का रेस्टोरेंट का लाइसेंस तक नहीं है। इतना ही नहीं, जून 2022 में इस बार के शराब लाइसेंस का नवीनीकरण उस ऐसे व्यक्ति के नाम पर कर दिया गया जिसकी मौत मई में ही हो गई थी।

कल किया था नोटिस भेजने का ऐलान
कांग्रेस ने प्रेस कान्फ्रेंस कर इस पूरे मामले पर स्मृति ईरानी की सफाई मांगी थी। शाम को केन्द्रीय मंत्री ने कांग्रेस के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा था-मेरी बेटी कॉलेज की स्टूडेंट है और वो कोई बार नहीं चलाती है। वहीं, उन्होंने इसके लिए कांग्रेस के नेताओं को कानूनी नोटिस भेजने का ऐलान भी किया था, जिसे आज उन्होंने भेज दिया है।

स्मृति ईरानी के वकील ने कानूनी नोटिस में कहा है- “कांग्रेस पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि उनकी (स्मृति ईरानी की) 18 साल की बेटी जोइश ईरानी गोवा में ‘सिली सोल्स कैफे एंड बार’ नाम से रेस्त्रां चलाती है और उनकी बेटी जोइश ईरानी को गोवा के आबकारी विभाग ने कारण बताओ नोटिस भेजा है।”
 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!