सत्य पथिक वेबपोर्टल/बरेली/Kavya Goshthi: बरेली महानगर की लब्ध प्रतिष्ठ साहित्यिक संस्था “साहित्य सुरभि” की वर्ष १९९४ से माह के तृतीय रविवार की नियमित काव्यगोष्ठियों की श्रंखलाओं में हिन्दी दिवस, मकर संक्रान्ति, लोहड़ी और पोंगल पर्व के उपलक्ष्य में संस्था कार्यालय के हिन्दी भवन में ३४६वीं मासिक काव्यगोष्ठी आयोजित की गई।

कवि हेमपाल पटेल अनुराग जी के सौजन्य से संपम्न्न हुई इस गोष्ठी की अध्यक्षता सुभाष राहत बरेलवी ने की और मुख्य अतिथि का दायित्व एसए हुदा सोंटा ने निभाया। मंच संचालन मनोज दीक्षित टिंकू ने बड़े ही रोचक और सरसता से करते हुए सबको खूब हंसाया-गुदगुदाया । काव्य की अधिष्ठात्री मां सरस्वती की वंदना वरिष्ठ कवि कमल सक्सेना द्वारा प्रस्तुत की गई ।

गोष्ठी में उपस्थित कवियों ने अपनी मौलिक कविताओं गीत, ग़ज़ल,,कुंडलियां , छंद, दोहों के माध्यम से सामाजिक विसंगतियों पर खूब प्रहार किए और संयोग–वियोग श्रृंगार, अध्यात्म और अन्य विषयों की भावपूर्ण रचनाएं सुनाकर सबके हृदय पर गहरी छाप छोड़ी। उपस्थित जन समूह ने करतल ध्वनि से कवियों की सराहना करते हुए उनके उत्साह को बढ़ाया।
देर तक चली काव्यगोष्ठी में सर्वश्री राममूर्ति गौतम गगन, हेमपाल पटेल अनुराग, निर्दोष कुमार, सुभाष राहत बरेलवी, हिमांशु श्रोत्रिय निष्पक्ष, कमल सक्सेना, रणधीर प्रसाद गौड़ धीर, शिव शंकर यजुर्वेदी, जगदीश निमिष, रजत कुमार, मनोज दीक्षित टिंकू आदि ने काव्य पाठ किया।
आयोजक हेमपाल अनुराग ने कवियों को लेखन सामग्री भेंटकर सम्मानित किया। संस्था के संस्थापक अध्यक्ष राममूर्ति गौतम गगन ने सभी कवियों और श्रोताओं का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए गोष्ठी के समापन की घोषणा की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!