सत्य पथिक वेबपोर्टल/मुम्बई/Shivsena may support to Droupadi Murmu: शिवसेना में बड़ी बगावत और अधिकांश सांसदों के साफ रुख के बाद अब पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे एनडीए की राष्ट्रपति प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू के समर्थन का ऐलान कर सकते हैं। ऐसा हुआ तो मुर्मू को समर्थन का ऐलान भाजपा और शिवसेना के रिश्तों के बीच की गहरी खाई को पाटने वाला मजबूत पुल भी साबित हो सकता है।

पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने बताया कि सोमवार को हमने शिवसेना की बैठक में द्रौपदी मुर्मू को समर्थन के मुद्दे पर चर्चा की। लेकिन मुर्मू को समर्थन का मतलब यह नहीं है कि हम भाजपा का समर्थन कर रहे हैं। हम आदिवासी नेता के नाम पर द्रौपदी मुर्मू का समर्थन कर सकते हैं। हम पहले भी ऐसे फैसले लेते रहे हैं।शिवसेना किसका समर्थन करेगी यह एक-दो दिन में स्पष्ट हो जाएगा। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे इस पर निर्णय करेंगे। 

राउत के बयान पर राकांपा की सधी प्रतिक्रिया
महा विकास अघाडी में साझेदार राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने शिवसेना के इस ऐलान से अनभिज्ञता जताई है। पार्टी नेता छगन भुजबल ने कहा कि शिवसेना ने राष्ट्रपति चुनाव में किसी को समर्थन देने पर अभी कोई फैसला नहीं किया है। उसे फैसला लेना है। शिवसेना नेतृत्व पार्टी के बिखरे संगठन को जोड़ने और मजबूत बनाने में जुटा है। जब इतने सारे लोग एक साथ पार्टी छोड़ दें तो कोशिशें नीचे से ही शुरू करनी होती हैं और उद्धव जी यही काम कर रहे हैं। 

सांसदों के दबाव में मुर्मू को समर्थन का ऐलान संभव

राष्ट्रपति चुनाव के मुद्दे पर सोमवार को हुई शिवसेना की बैठक में कई सांसदों ने मुर्मू को समर्थन की राय जाहिर की थी जबकि राज्यसभा सदस्य, पार्टी प्रवक्ता संजय राउत विपक्ष के साझा प्रत्याशी यशवंत सिन्हा को समर्थन पर जोर देते रहे। इस बैठक में संजय राउत कथित तौर पर अलग-थलग पड़ गए थे। पार्टी सूत्रों का कहना है कि शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे पार्टी के अधिकांश सांसदों का विरोध मोल लेने के बजाय मुर्मू को समर्थन का ऐलान कर सकते हैं। राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान 18 जुलाई को होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!