सत्य पथिक वेबपोर्टल/नई दिल्ली/Monsoon Session: लोकसभा के चार सांसदों की निलंबन वापसी के साथ ही सोमवार को संसद में पखवाड़े भर से जारी गतिरोध भी खत्म हो गया। इसी के साथ सदन में महंगाई पर चर्चा भी शुरू हो गई है।

दरअसल, संसद के चालू मॉनसून सत्र में महंगाई, जीएसटी जैसे मुद्दों पर विपक्ष पिछले पखवाड़े भर से भारी हंगामा और विरोध प्रदर्शन कर कामकाज चलने ही नहीं दे रहा था। आसन के सामने आकर प्लेकॉर्ड दिखाने पर कांग्रेस के चार सांसदों मनिकम टैगोर , टीएन प्रतापन , जोथिमणि और राम्या हरिदास को लोकसभा से पूरे सत्र के लिए निलंबित कर दिया गया था।

ओम बिरला की पहल लाई रंग

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सोमवार को सभी दलों के नेताओं की बैठक बुलाई थी। अध्यक्ष बिरला के आग्रह पर सरकार लोकसभा में सांसदों की निलंबन वापसी का प्रस्ताव लेकर आई। स्पीकर ओम बिरला ने कहा-‘पिछले दिनों सदन में हुई घटनाओं से सब आहत हैं। मैं भी आहत हुआ हूं। देश को भी पीड़ा पहुंची है। उन्होंने कहा, ‘संसद देश की सर्वोच्च लोकतांत्रिक संस्था है। संसदीय परम्परा पर हम सबको गर्व है। चर्चा-संवाद और सकारात्मक बहस से सदन को प्रतिष्ठा मिली है। हमारे पूर्ववर्ती अध्यक्षों और सदस्यों ने मर्यादा और परम्पराओं को निभाया है। इस मर्यादा-शालीनता की रक्षा करना हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है।’ बिरला ने कहा-
“विषयों पर सहमति-असहमति हो सकती है. लेकिन हमें सदन की गरिमा को मी बनाए रखना है। चर्चा-संवाद, तर्क-वितर्क जरूरी है। सबको पर्याप्त समय और अवसर देता हूं। देश की जनता हम पर विश्वास रखती है कि हम इस सर्वोच्च सदन की मर्यादा बनाए रखेंगे।”
प्लेकार्ड लेकर न आएं सांसद

इस दौरान लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने कहा- “सभी सदस्यों से अपील करता हूं कि प्ले कार्ड लेकर कोई भी सदन में ना आए। अंतिम बार मौका दे रहा हूं। फिर मैं किसी की नहीं सुनूंगा। अगर कोई भी प्ले कार्ड लेकर आया तो कार्रवाई करनी पड़ेगी।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!